" /> कोरोना की वजह से कालीन उद्योग पर मंडरा‍या संकट!

कोरोना की वजह से कालीन उद्योग पर मंडरा‍या संकट!

-कालीन उत्पादन और निर्यात पूरी तरह ठप -जहाज कम्पनियों ने बढ़ाया कई गुना भाड़ा

दुनिया भर में कोरोना संक्रमण और लॉकडाउन की वजह से भदोही की कारपेट इंडस्ट्री (कालीन उद्योग) को भारी नुकासान उठाना पड़ा है। निर्यातकों की माने तो राष्ट्रीय स्तर पर तीन माह के दौरान तकरीब तीन हजार करोड़ की कालीन गोदामों में डम्प पड़ी है उसका निर्यात नहीँ हो सका है। लॉकडाउन में कालीन उद्योग को भारी कीमत चुकानी पड़ी है। हैंडमेड कालीन का निर्माण पूरी तरह ठप है। जिसकी वजह से कालीन उद्योग की हालत बेहाल है। भारत दुनिया की 80 फीसदी कालीन की मांग को पूरा करता है।

भारत में निर्मित हैंडमेड कालीन दुनिया भर में अस्सी फीसदी की मांग को पूरा करता है। जबकि 60 से 80 फीसदी माल अमेरिका खपाता है। लेकिन कोरोना संक्रमण की वजह से अमेरिका के साथ, यूरोप की हालत खस्ता है। भारत में सबसे अधिक भदोही की कालीन की मांग अमेरिका में है। इसके अलावा इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया , जर्मनी, फ्रांस, इटली, बेल्जियम और दूसरे देश शामिल हैं। लेकिन लॉकडाउन की वजह से बाजार पर बुरा प्रभाव पड़ा है। निर्यात के ऑर्डर जो पहले से हैं वहीं नहीँ पूरे हो रहें हैं। कोरोना की वजह से काम बंद है। जिसकी वजह से उत्पादन नहीँ हो रहा है। पूर्वांचल में भदोही, मिर्जापुर, सोनभद्र, वाराणसी, जौनपुर, गाजीपुर, बलिया, मऊ, गोरखपुर, आजमगढ़ जैसे कई जिलों में कालीन बुनाई का काम ठप है। पश्चिमी यूपी में आगरा, शाहजहाँपुर, सीतापुर के साथ और कई जिलों में बुनाई होती है। लेकिन लॉकडाउन में बुनाई बंद पड़ी है जिसका प्रभाव कालीन उद्योग पर पड़ा है।

यूपी एक्सपोर्ट प्रमोशन कौंसिल के वाइस चैयरमेन विनय कूपर ने बताया कि कालीन उद्योग को लॉकडाउन की वजह से भारी नुकासान उठाना पड़ा है। उन्होंने बताया कि तकरीब इस तीन माह के दौरान तीन हजार करोड़ का कालीन डंप पड़ा है उसका निर्यात नहीँ हो पाया है। अगर तीन हजार की कालीन निर्यात होती तो उतने पैसे का भुगतान भी कालीन उद्योग को होता लेकिन कोविड- 19 की वजह से यह सम्भव नहीँ हुआ है। उन्होंने बताया कि 10 से 12 हजार करोड़ का निर्यात कालीन विदेशों को करता है। जिसमें यूपी एक्सपोर्ट प्रमोशन कौंसिल एक लाख करोड़ का कालीन निर्यात करती है। लेकिन वक्त के साथ हालात सामान्य होंगे, लेकिन अभी दिक्कत है। कपड़ामंत्री स्मृति ईरानी से उद्योग को सहूलियत देने की बात हुई है। मुख्यमंत्री योगी ने भी प्रस्ताव माँगा है। क्योंकि यूपी सरकार ने ‘वन डिस्ट्रिक्ट वन प्रोडक्ट’ यानी एक जिला एक उत्पाद में भदोही के कालीन उद्योग को शामिल किया है।

भदोही के कालीन उद्योग से जुड़े निर्माता और निर्यात असलम भाई ने बताया कि कोरोना की वजह से कालीन उद्योग को भारी क्षति हुई है। हालांकि यह कहना मुश्किल होगा कि नुकासान कितने का हुआ है लेकिन निर्यात पर काफी बुरा प्रभाव पड़ा है। क्योंकि पूरी दुनिया कोरोना से परेशान है। भारत से 80 फीसदी कालीन अमेरिका को निर्यात होता है वहां की हालत किसी से छुपी नहीँ है। वहां कालीन के स्टोर्स बंद हो रहें हैं। विमान और कूरियर कम्पनियों ने कई गुना भाड़ा बढ़ा दिया है। आयातक अब शर्त रखने लगे हैं। अब वह कहने लगे हैं कि निर्यात के बाद 180 दिनों तक आप पैसे की माँग नहीँ करेंगे। मज़दूर और बुनकर नहीँ मिल रहें हैं। तीन महींने से हैंडमेड कालीन का उत्पादन ठप पड़ा है। ग्लोबल बजार की हालत खस्ता है। इसका असर व्यापक है। अमेरिका के रिटेल मार्केट बंद हो रहें हैं। किसी तरह गोदाम में रखें माल को भेजा रहा है। आयात के ऑर्डर निरस्त हो रहें हैं। लॉकडाउन की वजह से उत्पादन ठप है। सरकार को इस संकट में उद्योग को सहायता देनी चाहिए। कोरोना संकट से कैसे निपटा जाय उद्योग और निर्यातकों के संग रायशुमारी करनी चाहिए।