" /> कोरोना ने किया करोड़ों का नुकसान! टिकट हो रहे कैंसिल

कोरोना ने किया करोड़ों का नुकसान! टिकट हो रहे कैंसिल

कोरोना के चलते मुंबई रेलवे को करोड़ों रुपए का नुकसान हो रहा है। मध्य और पश्चिम रेलवे के विविध स्टेशनों के लंबी दूरी के टिकट कैंसिल करने के लिए खिड़कियों पर लोगों की भारी भीड़ देखी जा रही है। इसके साथ ही मेट्रो और बेस्ट के यात्रियों की संख्या में तेजी से कमी आ रही है। पिछले वर्ष की तुलना में दोगुने टिकट वैंâसिल कराए जा रहे हैं।
गौरतलब है कि कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए बड़े पैमाने पर मुंबई की कंपनियों ने अपने कर्मचारियों को घर से काम करने का निर्देश दिया है। इसके साथ ही आम लोगों ने मुंबई लोकल से सफर न करने का निर्णय लिया है। ऐसे में हमेशा ठसा-ठस भरी हुई लोकल ट्रेनें खाली-खाली नजर आ रही हैं। मध्य रेलवे में इस माह मुंबई लोकल से लगभग ११ प्रतिशत यात्री कम हुए हैं। इससे सेंट्रल रेलवे को लगभग साढ़े चार करोड़ का नुकसान हुआ है। इसके साथ ही कोरोना के भय से बड़े पैमाने पर लोग टिकट वैंâसल करा रहे हैं, इससे रेलवे की टिकट खिड़कियों पर लोगों की भारी भीड़ जमा हो रही है। पश्चिम रेलवे में पिछले दो दिनों में साढ़े पांच करोड़ रुपए से ज्यादा के टिकट कैंसिल कराए गए। सोमवार, १६ मार्च को दो करोड़ ८१ लाख ३२ हजार ३१५ रुपए के टिकट कैंसिल हुए, वहीं मंगलवार १७ मार्च को दो करोड़ ६४ लाख ६६ हजार ३१५ रुपए के टिकट कैंसिल हुए। बीते वर्ष १६ मार्च २०१९ को एक करोड़ ३४ लाख ३३ हजार १९६ रुपए के टिकट कैंसिल हुए, वहीं मंगलवार १७ मार्च २०१९ को एक करोड़ ११ लाख ५८ हजार ५१३ रुपए के टिकट कैंसिल हुए। इस बार यह टिकट कैंसिल की संख्या दोगुनी हो गई है। मध्य रेलवे में सोमवार को लगभग ७४ लाख रुपए और मंगलवार को भी लगभग ८४ लाख रुपए से ज्यादा के टिकट कैंसिल करने पड़े। बड़े पैमाने पर हो रहे टिकट रद्दीकरण के कारण, रेलवे को पैसे लौटाने में परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है। कई केंद्रों पर दूसरे रेलवे स्टेशनों से पैसे मंगाकर वापस दिए गए। मध्य और पश्चिम रेलवे ने कई ट्रेनों को रद्द किया है। अब रेलवे को इन यात्रियों के पूरे पैसे लौटाने होंगे, जो रेलवे की आय में कमी दिखाएगा। वहीं बेस्ट की खाली घूम रही बसों की कमाई भी बड़े पैमाने पर घटी है। रोज बेस्ट बसों को लाखों का नुकसान हो रहा है।
पर्यटकों को कंपनी की राहत
कोरोना वायरस ने वैश्विक स्तर पर टूरिज्म को प्रभावित किया है। ऐसे में यात्री सुरक्षित रहें और प्लान रद्द होने की वजह से परेशान न हों इसलिए कम्युनिटी आधारित बेहतरीन अनुभव मुहैया करानेवाले जॉस्टेल ने सभी एकोमडेशन और अन्य सुविधाओं की कैंसिलेशन फीस माफ कर दी है, जिससे पर्यटकों को राहत मिली है। नई पॉलिसी के अनुसार जॉस्टेल की वेबसाइट के माध्यम से की गई बुकिंग का १०० रिफंड तत्काल प्रोसेस कर दिया जाएगा। इसके अलावा ऑनलाइन ट्रैवल्स एजेंसी के माध्यम से की गई बुकिंग के मामले में प्लेटफॉर्म यात्रियों द्वारा किए गए एडवांस डिपॉजिट को रिफंड करने के लिए प्रमुख रूप से सहयोग करेगा। जॉस्टेल की नई पॉलिसी यात्रियों को एकोमडेशन बुकिंग को ३१ दिसंबर, २०२० तक रिसेड्यूल करने का अवसर भी दे रही है।
जॉस्टेल के सह-संस्थापक और सीईओ धर्मवीर सिंह चौहान ने कहा कि यात्रियों का स्वास्थ्य बेहतर रहना ही हमेशा हमारे प्रमुख विचारों में से एक रहा है और इसीलिए हमने सभी तरह की याचिकाओं को स्वीकार करते हुए अपनी अधिकतर स्टे एंड रिजर्वेशन पॉलिसी को रद्द कर दिया है। हम फ्री कैंसिलेशन और उम्र की सीमा हटाते हुए सख्त सुरक्षा नियमों के आधार पर सस्ते दामों में लोगों को रुकने की सुविधा दे रहे हैं।
कोरोना पर आमना-सामना न करें
एनटीपीसी का निर्देश
कोविड-१९ के मौजूदा संकट को देखते हुए सबसे बड़ी बिजली उत्पादक कंपनी एनटीपीसी लिमिटेड ने महामारी से निपटने के लिए सरकार द्वारा जारी की गई सलाह के अनुरूप विभिन्न इकाइयों और कार्यालयों में तैनात अपने कर्मचारियों के लिए उपयुक्त दिशा-निर्देश जारी किए हैं। सभी कर्मचारियों को सलाह दी गई है कि वे आमने-सामने की बैठकों और सार्वजनिक समारोहों में जाने से बचें। एनटीपीसी ने कोविड-१९ के संबंध में टाउनशिप में सभी कर्मचारियों को फिल्मों, पोस्टर, होर्डिंग्स आदि जैसे विभिन्न अभियानों के माध्यम से जागरूक किया है और उन्हें यह जानकारी भी दी है कि ऐसे हालात में उन्हें क्या करना चाहिए और क्या नहीं? अधिकारियों को सलाह दी गई है कि जहां तक संभव हो, वे विदेशों में यात्रा करना टाल दें। इसके अलावा, कोई भी व्यक्ति जिसने हाल के दिनों (पिछले १४ दिनों) में प्रभावित विदेशी देशों का दौरा किया है, उसे उचित रूप से आगे की कार्रवाई के लिए राज्य स्वास्थ्य अधिकारियों को रिपोर्ट करने की सलाह दी गई है। ऐसे कर्मचारी जिन्हें कोविड-१९ के संक्रमण को लेकर उच्च जोखिम है, उन्हें घर से काम करने की अनुमति दी गई है।