" /> कोरोना ने बढ़ाया काम!

कोरोना ने बढ़ाया काम!

ट्रैफिक पुलिस ने ब्रेथ एनलाइजर का इस्तेमाल रोका
कार्रवाई के लिए रक्त की जांच करवाती पुलिस

होली के त्यौहार पर प्रतिवर्ष ड्रंक एंड ड्राइव के मामलों को रोकने के लिए ट्रैफिक पुलिस ब्रेथ एनलाइजर का इस्तेमाल कर कार्रवाई करती थी लेकिन इस वर्ष कोरोना वायरस एक आदमी से दूसरे आदमी तक संक्रमित न हो इसलिए ठाणे ट्रैफिक पुलिस ने ब्रेथ एनलाइजर का इस्तेमाल रोक दिया। इतना ही नहीं ड्रंक एंड ड्राइव की कार्रवाई के लिए संदिग्ध लोगों के रक्त का नमूना पुलिस को अस्पताल भेजना पड़ा और उसके पश्चात कार्रवाई करनी पड़ी। इस कोरोना वायरस के चलते ठाणे ट्रैफिक पुलिस का काम बढ़ गया।
बता दें कि होली के त्यौहार पर ठाणे ट्रैफिक पुलिस पूरे ठाणे आयुक्तालय अंतर्गत ड्रंक एंड ड्राइव मामलों पर कठोर कार्रवाई करती है। होली के त्यौहार पर अक्सर देखा गया है कि लोग शराब के नशे में गाड़ी चलाकर नियमों का उल्लंघन करते नजर आते हैं। प्रतिवर्ष की तरह ही इस वर्ष भी नियमों को ताक पर रखनेवाले लोगों पर कार्रवाई करने के लिए ठाणे पुलिस ने अपनी कमर कस ली थी लेकिन इस वर्ष कोरोना वायरस के संक्रमण से आम जनता को बचाने के लिए ठाणे ट्रैफिक पुलिस ने ब्रेथ एनलाइजर का इस्तेमाल टाल दिया था। ब्रेथ एनलाइजर का इस्तेमाल न कर पाने की वजह से ट्रैफिक पुलिसवालों को शराब पीकर वाहन चलानेवाले संदिग्ध लोगों के रक्त की जांच करवाने के लिए अस्पताल जाना पड़ रहा था। रक्त की जांच के बाद ही ठाणे ट्रैफिक पुलिस लोगों पर कार्रवाई कर रही थी। होली के दिन ठाणे, भिवंडी व बदलापुर आदि जगहों पर शाम ६ बजे तक ठाणे ट्रैफिक पुलिस द्वारा केवल १२४ ही लोगों पर ड्रंक एंड ड्राइव की कार्रवाई की गई थी, जब कि रंगपंचमी के दिन पुलिस द्वारा एक भी व्यक्ति पर ड्रंक एंड ड्राइव की कार्रवाई नहीं की गई।
ब्रेथ एनलाइजर का इस्तेमाल क्यों रोका?
वाहनचालक ने शराब पी है या नहीं? यह जानने के लिए ट्रैफिक पुलिस द्वारा ब्रेथ एनलाइजर मशीन को वाहन चालक के मुंह में डालकर शराब की मात्रा की जांच की जाती है। कोरोना वायरस के डर के चलते और कोरोना वायरस संक्रमण एक व्यक्ति से दूसरे व्यक्ति को न हो इसलिए ब्रेथ एनलाइजर मशीन का इस्तेमाल नहीं किया गया।