" /> कोरोना मरीजों को मिलेगी टीवी, वाईफाई की सुविधा -स्वास्थ्य मंत्री, राज्य में ३३ रोगियों में कोरोना पॉजिटिव

कोरोना मरीजों को मिलेगी टीवी, वाईफाई की सुविधा -स्वास्थ्य मंत्री, राज्य में ३३ रोगियों में कोरोना पॉजिटिव

८० संशयित कस्तूरबा में
मुंबई में लैब की सुविधा दोगुना करने का आदेश
सरकार हर परिस्थिति से निपटने को तैयार

राज्य में अब तक ३२ मरीजों में कोरोना वायरस पॉजिटिव पाए गए हैं, यह जानकारी स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने दी। अस्पतालों में रोगियों को भोजन, टीवी और वाईफाई की सुविधा देने का सरकार का प्रयत्न है। ऐसा स्वास्थ्य मंत्री ने कहा। कोरोना रोगियों की बढ़ती संख्या को देखते हुए उनकी जांच जल्द से जल्द की जाए। इसके लिए लैब की क्षमता दोगुना करने का प्रयत्न है। आगामी १५ से २० दिनों में मुंबई व पुणे में नए लैब की सुविधा दी जाएगी, ऐसा राजेश टोपे ने कहा। मिरज, सोलापुर, धुले, संभाजीनगर में नए लैब के संबंध में निर्णय हो सकता है, ऐसा स्वास्थ्य मंत्री ने बताया। दो दिन में केईएम में प्रयोगशाला का निर्माण करके रोगियों का टेस्ट किया जाएगा। जे. जे. अस्पताल, हाफकीन और पुणे में नए लैब बनाए जाएंगे। कस्तूरबा अस्पताल में बेडों की क्षमता १०० तक की जानेवाली है। आनेवाले दो-तीन दिन में बेड की संख्या १००० की जाएगी। सेवन हिल्स अस्पताल में ४०० बेड की व्यवस्था की गई है। डॉ. रात-दिन अपने कर्तव्य का पालन कर रहे हैं। उनके काम में किसी भी प्रकार की अड़चन न आए इसके लिए सभी मशीनरी उपलब्ध कराई जा रही है, ऐसा स्वास्थ्य मंत्री ने कहा। अब तक पिंपरी चिंचवड में ८, पुणे में ७, मुंबई में ५, नागपुर में ४, यवतमाल में २, रायगढ़ में १, ठाणे में १, कल्याण में १, नई मुंबई में १, संभाजीनगर में १ और नगर में एक इस प्रकार कुल ३२ कोरोना के रोगी हैं। कल ९५ संशयित रोगियों को भर्ती किया गया है। खबर लिखे जाने तक पिंपरी-चिंचवड में एक रोगी की संख्या बढ़ गई है। इस प्रकार कुल कोरोना प्रभावित रोगियों की संख्या ३३ तक पहुंच गई है।
पुणे प्रशासन के सामने नई चुनौती!
पुणे प्रशासन के सामने एक नई चुनौती उभरकर सामने आई है। पुणे में कोरोना के पांच रोगियों में से एक रोगी ९३ लोगों के साथ थाईलैंड घूमने के लिए गया था। इन ९३ में लोगों की खोजबीन शुरू है। यह जानकारी पुणे विभागीय आयुक्त डॉ. दीपक म्हैस्कर ने दी। उन्होंने बताया कि नए पांच लोगों की कोरोना रिपोर्ट आई है, जिसमें चार लोग कहीं घूमने नहीं गए थे। सभी कोरोना संक्रमित रोगी एक ही परिवार के हैं। इन पांचों में से एक व्यक्ति थाईलैंड से वापस आया है, जो ९३ में लोगों के साथ घूमने गया था। अब प्रशासन अन्य लोगों को खोजने का काम कर रहा है, ऐसा म्हैस्कर ने बताया।