" /> कोरोना वार्ड से एक महीने बाद घर लौटी कोरोना योद्धा : पड़ोसियों ने फूलों से किया स्वागत

कोरोना वार्ड से एक महीने बाद घर लौटी कोरोना योद्धा : पड़ोसियों ने फूलों से किया स्वागत

कोरोना वायरस के संकट से पूरी दुनिया जूझ रही है और फ्रंट लाइन पर खड़े होकर डॉक्टर, नर्स, मेडिकल स्टाफ और पुलिसवाले इससे जंग लड़ रहे हैं। सरकारें हर कोशिश तो कर ही रही हैं, मगर कोरोना वायरस के खिलाफ जंग असल में ये कोरोना योद्धा ही लड़ रहे हैं। अपनी जान की परवाह किए बगैर हजारों की जान बचा रहे हैं, मगर फिर भी देश के अलग-अलग हिस्सों से कोरोना योद्धाओं पर हमले हो रहे हैं। इस बीच महाराष्ट्र में कोरोना संक्रमित मरीजों के इलाज में लगी उक्त नर्स लगभग महीनेभर बाद घऱ लौटी तो उनका पड़ोसियों ने जोरदार स्वागत करके एक बेहतरीन मिसाल पेश की है।
महाराष्ट्र के नागपुर जिले की नर्स राधिका विंचुरकर इंदिरा गांधी सरकारी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल में कोविड-19 वार्ड में तैनात हैं, जब वह कोरोना मरीजों का इलाज कर एक महीने बाद अपने घर पहुंचीं तो उनके पड़ोसियों उन पर फूलों की बारिश कर उनका स्वागत किया। राधिका पर सभी पड़ोसी पुष्पवर्षा कर रहे थे, तालियां बजा रहे थे। इस दौरान राधिका भावुक नजर आईं। दरअसल, नागपुर की यह घटना इसलिए भी अहम हो जाती है क्योंकि आए दिन नर्स, आशा वर्कर्स और मेडिकल स्टाफ पर हमले की खबरें आती रहती हैं। इतना ही नहीं, कई जगह तो इन कोरोना योद्धाओं को पड़ोसी और मकान मालिक परेशान भी कर रहे हैं। ऐसे में राधिका के पड़ोसियों ने जो सम्मान दिया है, उससे राधिका जैसे कोरोना योद्धाओं का मनोबल बढ़ेगा।