" /> कोरोना संकट के बीच रहत की खबर! दिसंबर तक मिल सकती है वैक्सीन

कोरोना संकट के बीच रहत की खबर! दिसंबर तक मिल सकती है वैक्सीन

कोरोना वायरस की महामारी भारत के साथ-साथ दुनियाभर में अपना कहर बरपा रही हैl कई देश अब इस महामारी के खात्मे के लिए वैक्सीन बनाने पर काम कर रहे हैं लेकिन इस संकट के बीच भारत के लिए एक उम्मीद भी जगी है, क्योंकि साल के अंत तक भारत को कोरोना से लड़ने के लिए वैक्सीन मिल सकती हैl ब्रिटेन की ऑक्सफॉर्ड यूनिवर्सिटी में भी इसका ट्रायल शुरू हो रहा हैl विश्व प्रसिद्ध वैक्सीनोलॉजिस्ट और प्रोफेसर एड्रियन हिल का दावा है कि सितंबर तक दुनिया में पहली वैक्सीन आ जाएगी, जो कोरोना को मात देने में मदद करेगीl प्रोफेसर हिल का कहना है कि अगर ट्रायल पूरी तरह से ठीक गया तो सितंबर के बाद इस दवाई की सप्लाई शुरू होगीl भारत में भी ये दवाई साल के अंत तक आ सकती हैl एड्रियन हिल ने बताया कि अभी कई वैक्सीन ट्रायल के रूटीन में हैं, ऑक्सफॉर्ड में भी ऐसी ही एक वैक्सीन पर काम चल रहा हैl हमें उम्मीद है कि इस ट्रायल में हम सफल होंगे, जिसके बाद हमारा फोकस अधिक से अधिक वैक्सीन बनाने पर काम करेंगेl प्रोफेसर एड्रियन हिल के मुताबिक जो ट्रायल में संकेत मिल रहे हैं उसके तहत कोरोना वायरस के खिलाफ सिर्फ एक डोज काम कर पाएगील ब्रिटिश प्रोफेसर का कहना है कि इस प्रोजेक्ट में जो हमारी मदद कर रहे हैं उनमें भारतीय प्रोफेसर भी शामिल हैंl हिल के मुताबिक जिस वैक्सीन को तैयार किया जा रहा है उसके सफल होने की उम्मीद है लेकिन इसके लिए इम्युन सिस्टम मजबूत होना चाहिए इसी दम पर ये जल्द से जल्द अच्छा काम कर सकती हैl

तेजी से हो रहा है डोज बनाने का काम
इसी प्रोजेक्ट पर काम करनेवाले आदर पूनावाला का कहना है कि दो हफ्ते के बाद हम एक महीने में 5 मिलियन डोज बनाने में कामयाब होंगे, जिसके बाद इसकी रफ्तार एक महीने में 10 मिलियन डोज तक पहुंचा पाएंगेl इस प्रोजेक्ट के साथ हमें लगातार कई लोगों का साथ मिल रहा है और दुनियाभर से लोग मदद के लिए आगे आ रहे हैंl आदर पूनावाला का कहना है कि अगर क्लिनिकल टेस्ट और अन्य ट्रायल पूरी तरह से ठीक होते हैं तो इस साल के अंत तक हमें दवाइयां मिल सकती हैंl गौरतलब है कि कोरोना वायरस की महामारी ने दुनियाभर में अब तक 25 लाख से अधिक लोगों को अपनी चपेट में ले लिया है, जबकि 1 लाख 80 हजार से अधिक लोग अब तक मर चुके हैंl ऐसे में हर बड़ी महाशक्ति की यही कोशिश है कि इसको लेकर वैक्सीन तैयार की जाएl