" /> कोरोना से उपजा दवाओं का संकट

कोरोना से उपजा दवाओं का संकट

कोरोना वायरस के बढ़ते प्रकोप के बीच सरकार ने एक जरूरी कदम उठाते हुए कई दवाइओं के निर्यात पर रोक लगा दी है। कई जरूरी दवाओं का स्टॉक खत्म होने को है और चीन से दवाएं बनाने में इस्तेमाल होने वाले कच्चे माल की सप्लाई बाधित है। इसे देखते हुए सरकार ने २६ दवाओं के निर्यात पर रोक लगाने का फैसला किया है, ताकि देश में दवाओं की फिलहाल कमी न हो।
दवाओं के निर्यात पर यह रोक तुरंत प्रभाव से लागू कर दी गई है। डायरक्टरेट जनरल ऑफ फॉरन ट्रेड  द्वारा जारी नोटिफिकेशन के मुताबिक, पेरासिटामोल, टिनिडैजॉल, मेट्रॉनिडेक्जॉल, विटामिन बी१, बी१२, हॉर्मोन प्रोजेस्टेरॉन, क्रोमाफेनिकॉल से बने फॉर्मुलेशंस आदि के एक्सपोर्ट पर रोक लगाई गई है।

सरकार ने उन महत्वपूर्ण और जरूरी दवाइयों की पहचान की है जिनका स्टॉक खत्म हो सकता है। इनमें एमॉक्सिसिलिन, मॉक्सिफ्लॉक्सासिन, डॉक्सिसाइक्लीन जैसी ऐंटिबायॉटिक और टीबी की दवा रिफैंपिसिन शामिल हैं। इन दवाओं को तैयार करने के लिए कच्चा माल चीन से आता है। लेकिन कोरोना के कारण सप्लाई पर खतरा है। बता दें कि ५४ दवाओं का रिव्यू किया गया था, जिनमें से ३२ बेहद जरूरी दवाएं हैं। इनमें से १५ नॉन क्रिटिकल कैटिगरी में आती हैं।

ऐसी दवाओं का रिव्यू करने को कहा गया था, जिनके ऐक्टिव फार्मा इनग्रेडिएंट के लिए भारत पूरी तरह चीन पर निर्भर है। लेकिन चिंता की बात है कि समीक्षा में शामिल की गईं ३२ दवाओं का कोई विकल्प नहीं है, जिससे परेशानी बढ़ने की आशंका बढ़ गई है।

कोरोना वायरस फैलने के कारण चीन में प्रॉडक्शन ठप पड़ा है। कंपनियों ने सतर्कता बरतनी शुरू कर दी है। मैनकाइंड के  आर सी जुनेजा ने बताया, ‘एमॉक्सिसिलिन एक महत्वपूर्ण है जिसका मॉक्सिकाइंड-सीवी जैसे ऐंटिबायॉटिक्स के उत्पादन में सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाता है। चीन में बनी स्थिति के चलते दवाओं की कमी की चिंता के बीच सेलर्स को बड़े ऑर्डर दिए गए हैं। अप्रैल मध्य तक ऐसे हालात बने रहे तो दवाओं की काफी कमी हो जाएगी।’

दवाओं की सप्लाई को लेकर डॉक्टरों की चिंता भी बढ़ गई है। टीबी के इलाज में इस्तेमाल होने वाली रिफैंपिसिन उन जरूरी दवाओं में शामिल है, जिसके लिए मटीरियसल चीन से आयात होता है। डॉक्टरों का कहना है इसका स्टॉक खत्म होना चिंता की बात है। ऐसे में स्टॉक बचाए रखने के लिए निर्यात पर रोक अहम कदम है। ईटी ने पहले रिपोर्ट दी थी कि सरकार ने १२ दवाओं के निर्यात पर रोक लगाई है।