" /> कोरोना से देश में पहली मौत!

कोरोना से देश में पहली मौत!

हिंदुस्थान में कोरोना वायरस के ८१ से अधिक मामले सामने आने और कर्नाटक में पहली मौत के बाद से लोगों में जहां घबराहट का माहौल है, वहीं विभिन्न राज्यों में युद्धस्तर पर इससे लड़ने की तैयारियां शुरू हो गई हैं। राज्य सरकारों ने कड़े पैâसले लेने शुरू कर दिए हैं, जिसमें स्कूल-कॉलेज बंद करने से लेकर सार्वजनिक कार्यक्रमों पर रोक लगाने तक के कदम उठाए गए हैं। यूपी, बिहार, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, कर्नाटक, दिल्ली उन राज्यों में शामिल हैं, जिन्होंने कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए यह पैâसला लिया है।
दिल्ली की केजरीवाल सरकार ने कोरोना को महामारी घोषित कर दिया है। इसके साथ ही एहतियाती कदम उठाते हुए सरकारी और निजी स्कूलों व कॉलेजों को ३१ मार्च तक बंद करने का पैâसला किया गया है। कोरोना वायरस के बढ़ते कहर के मद्देनजर राष्ट्रपति भवन को एहतियाती तौर पर शुक्रवार से आम जनता के लिए बंद किया जा रहा है। राजधानी के प्रतिष्ठित दिल्ली विश्वविद्यालय, जेएनयू और आईआईटी में भी कक्षाएं नहीं ली जाएंगी। दिल्ली सरकार ने साथ ही गलत जानकारी फैलाने वालों को चेतावनी देते हुए कहा है कि ऐसा करने पर उनके खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। कर्नाटक में मॉल, थियेटर, नाइट क्लब, पब और स्वीमिंग पूल पर अगले सप्ताह तक रोक लगा दी गई है। इस दौरान शादी के समारोह और समर कैम्प के आयोजन की भी इजाजत नहीं दी जाएगी। इसके अतिरिक्त सभी सरकारी डॉक्टरों और स्वास्थ्य अधिकारियों की छुट्टियां रद्द कर दी गई हैं। कर्नाटक के कलबुर्गी में कोरोना वायरस से एक बुजुर्ग व्यक्ति की मौत हो गई है। यह हिंदुस्थान में कोरोना से मौत का पहला मामला है। सीएम नीतीश कुमार ने शुक्रवार को उच्च स्तरीय बैठक की। बैठक में ३१ मार्च तक सभी सरकारी व प्राइवेट स्कूल-कॉलेज व कोचिंग संस्थान बंद करने का पैâसला किया गया है। हालांकि सीबीएसई की १०वीं और १२वीं की परीक्षाएं जारी रहेंगी। नोवेल कोरोना वायरस के संक्रमण से बचाव के लिए मध्य प्रदेश सरकार लोगों को समूह में एकत्रित होने से रोक रही है। मौजूदा हालात को देखते हुए योगी सरकार ने अधिकारियों के साथ बैठक के बाद २२ मार्च तक स्कूल-कॉलेज बंद करने का पैâसला किया है। घनी आबादीवाले राज्य यूपी में अब तक कोरोना के ११ मामले सामने आए हैं।