" /> कोरोना हारेगा! ठाणे जिले को मिला ₹ 35 करोड़

कोरोना हारेगा! ठाणे जिले को मिला ₹ 35 करोड़

कोरोना से जंग के लिए राज्य सरकार का बड़ा निर्णय

ठाणे जिले में कोरोना के कहर को रोकने के लिए और जनता जनार्दन को किसी भी प्रकार की समस्या का सामना न करना पड़े इसलिए राज्य सरकार ने ठाणे जिले को 35 करोड़ रुपए की आर्थिक निधि दी है। अधिकारियों का कहना है कि सुविधाओं को आपूर्ति के लिए अधिक निधि की आवश्यकता होती है और कोरोना को हराने के लिए 35 करोड़ रुपया मददगार साबित होगा।
बता दें कि ठाणे जिले में कोरोना मरीजों का आंकड़ा 15 हजार के ऊपर जा पहुंचा है। स्वास्थ्य विभाग के उचित कार्यों के चलते 50 प्रतिशत से अधिक मरीज ठीक होकर घर लौट चुके हैं। ठाणे जिले में हालात काबू में नजर आ रहे हैं। इसी प्रकार कोरोना को हराने के लिए जरूरी सुविधाओं की पूर्ति के लिए पालकमंत्री एकनाथ शिंदे ने राज्य सरकार से अतिरिक्त निधि की मांग की थी, जिसे ध्यान में रखकर राज्य सरकार ने ठाणे जिले को अतिरिक्त 35 करोड़ रुपए की निधि प्रदान की है, जिसमें 5 करोड़ ठाणे मनपा, 10 करोड़ कल्याण-डोंबिवली मनपा, 10 करोड़ रुपए नई मुंबई मनपा और 10 करोड़ रुपए मीरा-भाइंदर मनपा का समावेश है। इसके अलावा कोंकण विभाग के लिए 109 करोड़, संभाजीनगर के लिए 20 करोड़ रुपए की निधि की मंजूरी मिली है। राज्य सरकार की ओर से कुल 129 करोड़ रुपए की निधि को इस महामारी से लड़ने के लिए मंजूर किया गया है, जिसमें सबसे अधिक ठाणे जिला को पालक मंत्री एकनाथ शिंदे के प्रयास से मिला है। ठाणे सहित पूरे राज्य के एमएमआर परिसरों से इस जानलेवा बीमारी को रोकने के लिए प्रशासनिक स्तर पर तमाम उपाय योजना की जा रही है, जिसमें स्वास्थ्य विभाग की विशेष भूमिका है। इसे देखते हुए पालक मंत्री एकनाथ शिंदे ने आपातकालीन निधि से आवश्यकता अनुसार निधि की मांग की थी लेकिन उससे भी अधिक निधि देने के लिए उन्होंने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे का आभार व्यक्त किया है।