" /> कोविड टेस्ट रिपोर्ट देरी से देने की भूल : मुंबई में मेट्रोपोलिस लैब की एक माह तक टेस्टिंग बैन

कोविड टेस्ट रिपोर्ट देरी से देने की भूल : मुंबई में मेट्रोपोलिस लैब की एक माह तक टेस्टिंग बैन

-मनपा का आदेश

महाराष्ट्र की सबसे बड़ी प्राइवेट लैब को अगले एक महीने तक के लिए कोविड-19 की जांच करने से रोक दिया गया। लैब को चार हफ्ते तक टेस्टिंग बंद रखने का आदेश मुंबई महानगर पालिका ने दिया है। लैब पर आरोप है कि वह रिपोर्ट देरी में देती है, जिससे कॉन्टैक्ट ट्रेसिंग में दिक्कत होती है।
मुंबई महानगरपालिका ने कहा है कि देरी में मिली रिपोर्ट के चलते इलाज में देरी के साथ ही कुछ मामलों में मौत भी हो सकती है। मुंबई महानगरपालिका ने मेट्रोपोलिस लैब पर यह रोक लगाई है। लैब ने भी यह माना है कि उनकी ओर से रिपोर्ट्स देने में देरी हुई। लैब की ओर से कहा गया है कि ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि उनके कई कर्मचारी कोरोना की चपेट में आ गए थे। लैब ने कहा कि देरी से जानेवाली रिपोर्ट्स की संख्या बहुत कम है।
राज्य में ठाणे स्थित एक और प्राइवेट लैब थायरोकेयर को भी नगर निगम द्वारा बैन कर दिया गया था। उस पर आरोप था कि उसके द्वारा झूठी रिपोर्ट दी गई। इस लैब पर लापरवाही का आरोप लगाते हुए वसई नगर निगम ने नोटिस जारी किया है। इससे पहले मुंबई में भी थायरोकेयर पर बैन लग गया है। लेकिन अगले कुछ दिनों में इसे दोबारा कोरोना जांच करने की अनुमति मिल गई थी।