" /> खुशखबरी!, लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों, पर्यटकों और छात्रों के आवागमन को मिली अनुमति, जारी हुआ गाइडलाइन

खुशखबरी!, लॉकडाउन में फंसे प्रवासी मजदूरों, पर्यटकों और छात्रों के आवागमन को मिली अनुमति, जारी हुआ गाइडलाइन

कोरोना संक्रमण को रोकने के लिए जारी लॉकडाउन से देशभर में बड़ी संख्या में मजदूर, छात्र औ पर्यटक फंसे हुए हैं। अब सरकार ने उन्हें राहत देते हुए गाइडलाइन के तहत अंतरराज्यीय यात्रा की अनुमति दे दी है। गृह मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया है कि सभी राज्य और केंद्रशासित प्रदेश अपने यहां फंसे लोगों को उनके गृह राज्यों में भेजने और दूसरी जगहों से अपने-अपना नागरिकों को लाने के लिए स्टैंडर्ड प्रॉटोकॉल तैयार करें। यानी अब हर राज्य दूसरे राज्यों में फंसे अपने नागरिकों को वापस ला पाएगा और अपने यहां फंसे अन्य राज्यों के लोगों को वहां भेज पाएगा।

गृह मंत्रालय ने जारी आदेश में कहा है कि राज्य और केंद्रशासित प्रदेश इस काम के लिए नोडल अथॉरिटीज नामित करेंगे और फिर ये अथॉरिटीज अपने-अपने यहां फंसे लोगों का रजिस्ट्रेशन करेंगी। जिन राज्यों के बीच लोगों की आवाजाही होनी है, वहां की अथॉरिटीज एक दूसरे से संपर्क कर सड़क के जरिए लोगों की आवाजाही सुनिश्चित करेंगी। हालांकि, जो लोग जाना चाहेंगे, उनकी स्क्रीनिंग की जाएगी। अगर उनमें कोरोना संक्रमण के कोई लक्षण नहीं दिखे तो ही उन्हें जाने दिया जाएगा।

लोगों की आवाजाही के लिए बसों का उपयोग किया जा सकेगा। बसों को सैनिटाइज करने के बाद उसमें सोशल डिस्टैंसिंग के नियम के मुताबिक ही लोगों को बिठाया जाएगा। कोई भी राज्य इन बसों को अपनी सीमा में प्रवेश करने से नहीं रोकेगा और उन्हें गुजरने की अनुमति देगा। अपने गंतव्य स्थान पर पहुंचने के बाद लोगों की स्वास्थ्य जांच की जाएगी, उन्हें होम क्वॉरेंटाइन में ही रहना होगा। जरूरत पड़ी तो उन्हें अस्पतालों में भी भर्ती किया जाएगा। उनकी समय-समय पर जांच होती रहेगी। ऐसे लोगों को आरोग्य सेतु का इस्तेमाल करना होगा ताकि उनके स्वास्थ्य पर नजर रखी जा सके।