गणेश मंडलों को अनुमति देने में आनाकानी की तो सड़कों पर करेंगे महाआरती! उद्धव ठाकरे ने चेताया

वर्षों से गणेशोत्सव मनानेवाले मंडलों को अनुमति देने की जिम्मेदारी मनपा प्रशासन की है। अनुमति देने में आनाकानी की तो याद रखो! पूरी मुंबई में सड़क पर महाआरती करेंगे! इन कड़े शब्दों में चेताते हुए शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने कहा कि गणेशोत्सव बड़ी धूम-धाम से होगा मतलब होगा ही।
मुंबई के गणेशमंडलों को पंडाल बनाने व अन्य अनुमति देने में मनपा प्रशासन द्वारा आनाकानी की जा रही है। बनाए गए पंडालों को तोड़ा जा रहा है, जिससे गणेशभक्तों में संताप का माहौल बन गया है। इस पार्श्वभूमि पर उद्धव ठाकरे ने गणेश मंडलों के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को कल मरीन लाइन्स स्थित बिरला मातुश्री सभागृह में मार्गदर्शन किया। इस मौके पर मुंबई के ४०५ गणेशमंडलों के पदाधिकारी उपस्थित थे।

गणपति विरोधी सरकार हिंदूद्रोही ही

मोहर्रम और दुर्गा विसर्जन एक ही दिन होने के कारण ममता बनर्जी ने पश्चिम बंगाल में उस दिन दुर्गा विसर्जन पर रोक लगा दी थी। इसको लेकर भाजपा ने उन पर ‘हिंदूद्रोही’ होने का आरोप लगाया था। इसी का उदाहरण देते हुए शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने गणेशोत्सव में विघ्न डालनेवालों पर प्रहार किया। राम मंदिर कब बनेगा? ये तो राम जाने! लेकिन गणपति का विरोध करनेवाली सरकार फिर वो चाहे किसी की भी हो, वो हिंदूद्रोही ही है। इन कड़े शब्दों में उद्धव ठाकरे ने प्रहार किया।

मुंबई के गणेश मंडलों को पंडाल बनाने व अन्य अनुमति देने में मनपा प्रशासन द्वारा आनाकानी की जा रही है। बनाए गए पंडालों को तोड़ा जा रहा है, जिससे गणेशभक्तों में संताप का माहौल बन गया है। इस पाश्र्वभूमि पर उद्धव ठाकरे ने गणेश मंडलों के पदाधिकारियों और कार्यकर्ताओं को कल मरीन लाइन्स स्थित बिरला मातुश्री सभागृह में मार्गदर्शन किया। इस दौरान उद्धव ठाकरे ने उत्सवों के आड़े आनेवाले कायदा पंडितों की भी जमकर खबर ली। उन्होंने कहा कि प्रति वर्ष गणेशोत्सव से पहले गणेश मंडलों के साथ मेरी मुलाकात होती है लेकिन उन्हें कायदे-कानून का विघ्न आ रहा है, इस वजह से यह मुलाकात करनी पड़े, ऐसी उस गणराय की भी इच्छा नहीं होगी। विघ्नहर्ता मंगलमूर्ति के आगमन से पहले ही ‘विघ्नकर्ता’ कायदा पंडितों का सोंटा चलता है। खुशी के मौके पर वे काली बिल्ली की तरह आड़े आते हैं। गणेशोत्सव बड़े धूमधाम से मनाया जाता है। जिन्हें उत्सव पसंद नहीं है, वे खुशी से दस दिनों तक श्मशान में जाकर बैठें, ऐसा उद्धव ठाकरे ने कहा।