" /> गेंदबाज पर भरोसा

गेंदबाज पर भरोसा

दुनिया के सबसे महान गेंदबाज और श्रीलंकाई दिग्गज मुथैया मुरलीधरन ने भारतीय टीम के पूर्व कप्तान महेंद्र सिंह धोनी की कप्तानी को लेकर बड़ा दावा किया है। मुरलीधरन ने कप्तानी कौशल के लिए भारत के विकेटकीपर बल्लेबाज एमएस धोनी की सराहना की। मुथैया मुरलीधरन ने कहा कि धोनी की कप्तानी के बारे में सबसे अच्छी बात यह थी कि उन्होंने गेंदबाज पर भरोसा किया और उन्हें अपना क्षेत्र निर्धारित करने की आजादी दी। भारतीय टीम के ऑफ स्पिनर आर अश्विन के साथ लाइव चैट करते हुए मुथैया मुरलीधरन ने कहा, `मैं कहना चाहूंगा कि वह (एमएस धोनी) एक युवा कप्तान थे। यह २००७ के विश्व कप में था और उन्होंने भारत की कप्तानी की और जीत हासिल की। उनको पता होता था कि यदि गेंदबाज काम नहीं कर पा रहा है तो वे उस गेंदबाज को खुद ही फील्डिंग सेट करने का मौका देते थे।’ सीएसके लिए आइपीएल में धोनी की कप्तानी में खेलने वाले मुरलीधरन ने कहा है कि अगर किसी गेंदबाज को अच्छी गेंद पर छक्का पड़ जाए तो धोनी ताली बजाते हैं। मुरली ने कहा है, `अगर कोई अच्छी गेंद पर छक्का लगाएगा तो वह (धोनी) ताली बजाएंगे। वह गेंदबाज को बताएंगे कि यह एक अच्छी गेंद है और इससे कोई फर्क नहीं पड़ता कि बल्लेबाज ने आपको छक्का मारा है। बल्लेबाजों में भी हिट करने की प्रतिभा होती है।’ २००८ से २०१० के बीच आइपीएल के तीन सत्रों में धोनी की अगुवाई में खेलते हुए ४० विकेट लेने वाले मुरलीधरन ने कहा कि धोनी गेंदबाज को यह बताने के लिए अकेले ले जाते हैं कि उनको क्या करना है।