" /> गैर भाजपा पार्षदों ने प्रशासन पर लगाया राशन सामग्री बांटने में भेदभाव का आरोप

गैर भाजपा पार्षदों ने प्रशासन पर लगाया राशन सामग्री बांटने में भेदभाव का आरोप

गैर-भाजपाई पार्षदों के वार्डों में राशन किट बांटने में हो रही मनमानी की सूचना लगातार प्रशासन तक पहुंचने के बाद भी जरुरतमंदाें को राशन किट उपलब्ध नहीं कराया गया तो पार्षदों का धैर्य टूट गया। जिससे आक्रोशित पार्षदों ने तहसील में धरना शुरू कर दिया। सूचना मिलते ही विभाग में हड़कंप मच गया, बाद में इन पार्षदों ने एसएसपी और नायाब तहसीलदार के हस्तक्षेप के बाद धरना समाप्त किया।

इस धरने में शामिल खजूरी पार्षद प्रतिनिधि मयंक चौबे प्रशासन पर आरोप लगाते हुए कहा कि लगातार जरूरतमंद जनता को परेशान किया जा रहा है, गैर भाजपाई पार्षद के वार्डों में दोहरी नीति अपनाई जा रही है। पिछले एक हफ्ते से दौड़ाया जा रहा है और जनता राशन के लिए परेशान है। मयंक ने बताया कि जिला प्रशासन द्वारा सभी पार्षदों से एक सूची मांगी गई थी कि जिसके पास राशनकार्ड न भी हो और जरूरतमंद हो तो उसको राशन उपलब्ध कराया जाएगा। उन्होंने बताया कि मैंने 600 लोगों की सूची दी थी मगर हमारे वार्ड में जो राशन आया वह भाजपा कार्यकर्ता के घर गिरा दिया गया, ऐसे में पार्षद अपने वार्ड के जरुरतमंदो को कैसे राशन उपलब्ध कराया जाएगा।

मयंक ने गम्भीर आरोप लगाते हुए कहा कि लगातार फोन करने वाले लोगों का तहसीलदार ने मोबाइल नंबर ही प्रतिबंधित कर रखा है। सुबह से लेकर शाम साढ़े तीन बजे तक जनता की राशन के लिए तहसील में बैठाने के बाद वापस कर देते है। सभी चौकी-थानों और तहसील से कानूनगो द्वारा राशन के लिए पार्षदों के पास भेजा जा रहा है आखिर ऐसे में जनता किससे मदद मांगेगी। धरना की सूचना मिलते ही पार्षद विनय सनेजा, रमजान, अफजल, बबलू शाह और मिथलेश साहनी भी पहुंच गए और विरोध प्रदर्शन किया।