गोमती की उल्टी धारा

न-न, ये गोमती नदी की बात नहीं है बल्कि ऐसी एथलीट की बात है, जिसकी किस्मत की धारा उल्टी बह रही है। देखिए न, हिंदुस्थान को एशियन एथलेटिक्स चैंपियनशिप में ८०० मीटर रेस में गोल्ड मेडल दिलानेवाली गोमती मरिमुथु को प्रतिबंधित दवा के सेवन के कारण डोप टेस्‍ट में पॉजिटिव पाया गया है। मामला ये है कि यदि पदार्थ स्टेरॉयड है तो अपने एथलेटिक्‍स करियर में कामयाबी की ओर बढ़ रही गोमती मरिमुथु के लिए यह मुसीबत बन सकती है। ३० वर्षीय गोमती ने पिछले महीने गोल्‍ड मेडल के लिए २.०२.७० का व्यक्तिगत सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन किया था जबकि इससे पहले इसी साल मार्च में पटियाला में हुए फेडरेशन कप में उनका रिकॉर्ड २:०३:२१ रहा था। हालांकि भारतीय एथलेटिक्‍स फेडरेशन की अध्‍यक्ष आदिली सुमरीवाला ने गोमती मरिमुथु के डोप टेस्‍ट में पॉजिटिव पाए जाने पर कोई ऑफिशियल जानकारी मिलने से इंकार किया है। हिंदुस्थान को एशियन एथलेटिक्‍स चैंपियनशिप में ८०० मीटर रेस में गोल्‍ड मेडल दिलानेवाली गोमती मरिमुथु ने कुछ दिन पहले अपने संघर्ष की कहानी मीडिया से शेयर की थी। तमिलनाडु की महिला एथलीट ने बताया था कि वह आज जिस मुकाम पर है वहां पर पहुंचाने में उनके पिता की बड़ी भूमिका है। मुझे अच्‍छा खाना खिलाने के लिए मेरे पिता जानवरों के लिए रखा खाना खाते थे। इस दौरान वह भावुक हो गर्इं और उनकी आंखों से काफी देर तक आंसू बहते रहे। उनके पिता का कुछ साल पहले निधन हो गया था। गोमती अभी बंगलुरु में इनकम टैक्‍स डिपार्टमेंट में टैक्‍स असिस्‍टेंट के पद पर तैनात हैं। उम्मीद है कि गोमती की उल्टी धारा ठीक हो और वो सीधी बहे यानी सब कुछ ठीक-ठाक हो जाए।