गोल्ड मेडलिस्ट बनी पोर्न स्टार

किस्मत का सारा खेल है। मजबूरी इंसान को क्या से बना देती है? हम तो चाहते हैं कि दुश्मन को भी किस्मत ऐसी दगा न दे जो जिम्नास्ट की एक गोल्ड मेडलिस्ट को मिला। कभी जिम्नास्ट की स्वर्ण पदक विजेता रही खिलाड़ी आज पोर्न फिल्में करने को मजबूर है। डच जिम्नास्ट वेरोना वैन डे लेउर की किस्मत में कुछ और ही लिखा था। हालांकि उसने जब २००२ में स्टुगर्ट में हुए जिम्नास्ट विश्व चैंपियनशिप में हिस्सा लिया था तो वहां वो गोल्ड मेडल जीत कर ख्यातिनाम हुई थी। वेरोना जिम्नास्ट की भविष्य की एक होनहार खिलाड़ी के रूप में चर्चा में आई। अलग-अलग टूर्नामेंट में कुल ८ पदक जीतकर उसने दुनिया में सनसनी मचाई थी मगर हालात की मारी वेरोना को मजबूरन पोर्न इंडस्ट्री में कूदना पड़ा। उसकी सुंदरता ने उसे इस इंडस्ट्री में भी हिट होने में कोई कसर नहीं छोड़ी। २००२ की स्पोर्ट्स वुमन ऑफ द ईयर रहनेवाली वेरोना की जिंदगी २०११ में बदल गई, जब उसे ब्लेकमेलिंग और एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर के मामले में ७२ दिनों की जेल हो गई। इसके बाद जिंदगी ने करवट बदली। आर्थिक रूप से बदहाल वेरोना को उसके अपने भी छोड़कर चले गए, वो पूरी तरह अकेली हो गई। घरवालों ने घर से निकाल दिया तब उसके ब्वॉयप्रâेंड ने उसका साथ दिया। ब्वॉयफ्रेंड के पास जब तक पैसे थे तब तक सब ठीक था मगर जब उसके पास भी खत्म हो गए तो उसे मजबूरन पोर्न फिल्म इंडस्ट्री में उतरना पड़ा। वेरोना बताती है कि वो टिपिकल पोर्न स्टार नहीं है। वो फिल्में या तो अकेले में बनाती है या फिर अपने ब्वॉयप्रâेंड के साथ और फिलहाल इससे वो खुश है। वो कहती है अब मैं इसे अपने एक जॉब की तरह मानती हूं।