" /> घर बैठे करो बप्पा का दर्शन!

घर बैठे करो बप्पा का दर्शन!

भिवंडी का मशहूर धामनकर नाका मित्र मंडल इस वर्ष बिना किसी मशहूर मंदिर की झांकी के सादगी पूर्वक गणेशोत्सव का आयोजन कर रहा है, जहां पर गणराया के दर्शन के लिए भक्तों की नो एंट्री होगी। मंडल द्वारा यू-ट्यूब व फेसबुक पर पंडाल के थ्रीडी सजावट व गणराया की मूर्ति का सीधा प्रसारण किया जाएगा, ताकि भक्त घर बैठे बप्पा के दर्शन का लाभ उठा सकें। इसके अलावा उक्त मंडल इस वर्ष तरह-तरह के जनहित कार्यक्रम का आयोजन कर रहा है।
बता दें कि भिवंडी का मशहूर धामनकर नाका मित्र मंडल व स्वाभिमान सेवा संगठन लगातार ३२ वर्षो से स्थानीय धामनकर नाका परिसर में भव्य सार्वजनिक गणेशोत्सव का आयोजन करते आ रहे हैं। हर वर्ष मंडल की तरफ से देश के प्रसिद्ध ऐतिहासिक मंदिरों की झांकी बनाकर उसमें १२ फिट ऊंचे गणराया की मूर्ति की स्थापना की जाती थी लेकिन इस वर्ष कोरोना के बढ़ते संक्रमण व सरकारी दिशा निर्देश के तहत मंडल द्वारा एकदम साधारण तरीके से व अलग ढंग से सार्वजनिक गणेशोत्सव का आयोजन किया जा रहा है। मंडल के अध्यक्ष संतोष शेट्टी ने बताया कि बिना किसी भव्य पंडाल के मात्र ढाई फिट के गणराया की मूर्ति स्थापित की जा रही है। उन्होंने बताया कि इस वर्ष बिना किसी जल्लोष के मूर्ति को लाया गया तथा बिना किसी जुलूस के मूर्ति के विसर्जन में भी मात्र पांच लोग ही शामिल होंगे। अध्यक्ष संतोष शेट्टी ने बताया कि इस साल पंडाल में दर्शन पर पाबंदी रहेगी। उन्होंने बताया कि थ्री डी पद्धति से की गई पंडाल की सजावट, पूजा-पाठ व मूर्ति का दर्शन यू-ट्यूब व फेसबुक पर लाइव प्रसारण किया जाएगा ताकि भक्त घर बैठे बप्पा के दर्शन का लाभ उठा सकें। संतोष शेट्टी ने बताया कि इसके अलावा मंडल की तरफ से कोरोना काल में जनता की रक्षा में दिन-रात मेहनत करने वाले मनपाकर्मी, पुलिस व सफाई कर्मचारियों का स्वागत भी किया जाएगा।
१० दिनों तक होगा ब्लड कैंप का आयोजन
मंडल के अध्यक्ष संतोष शेट्टी ने बताया कि गणेशोत्सव के लगातार दस दिनों तक मंडल की तरफ से ब्लड कैंप का आयोजन किया जाएगा। सुबह ११ बजे से शाम पांच बजे तक रोजाना ब्लड लिया जाएगा। इसके लिए ऑनलाइन फार्म भरना पड़ेगा। उन्होंने बताया कि कोरोना के कारण इस वर्ष बच्चों के लिए ड्राइंग कंपटीशन नहीं किया जा रहा है। इसलिए इस साल भारतरत्न स्व. अब्दुल कलाम महा रक्तदान शिविर का आयोजन किया जा रहा है। इस शिविर के माध्यम से मंडल की तरफ से २१०० लोगों के रक्तदान का संकल्प है।