" /> घर में रहो लॉक!, मनपा का ‘निसर्ग’ अलर्ट

घर में रहो लॉक!, मनपा का ‘निसर्ग’ अलर्ट

कोरोना से जूझ रही मुंबई पर अब चक्रवाती तूफान निसर्ग का खतरा मंडरा रहा है। मौसम विभाग के अनुसार निसर्ग तूफान के बुधवार को मुंबई के तट पर पहुंचने की आशंका है। इस दौरान करीब १०० किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं। इससे निपटने की योजना की तैयारी मनपा ने कर ली है। हालांकि तूफान को लेकर मनपा ने मुंबईकरों को भी अलर्ट किया है। मनपा ने मुंबईकरों को घर में ही लॉक रहने यानी घर से बाहर न निकलने की अपील की है।
बता दे कि अरब सागर में बना कम दबाव का क्षेत्र डीप डिप्रेशन में बदल जाएगा। इससे बुधवार को मुंबई में भारी बारिश की आशंका जताई गई है। सोमवार और मंगलवार को मुंबई में हल्की बारिश देखने को मिली। मौसम का पूर्वानुमान करनेवाली निजी संस्था स्काइमेट के प्रमुख महेश पलावत ने बताया कि ‘फिलहाल यह तूफान नहीं बना है और अरब सागर में मुंबई कोस्ट से करीब ६०० किलोमीटर की दूरी पर है। यह डीप डिप्रेशन तूफान का रूप ले सकता है और फिर तेजी से उत्तर महाराष्ट्र और दक्षिण गुजरात से होते हुए आगे बढ़ेगा। इस दौरान मुंबई, पालघर, ठाणे और रायगड में १०० से २०० एमएम तक बारिश हो सकती है।’ उन्होंने कहा, ‘तूफान का सबसे अधिक असर पालघर में दिख सकता है। अनालिसिस के अनुसार ४ जून की सुबह तक इसका असर हल्का पड़ जाएगा।’ हो सकती है। मामले की गंभीरता को देखते हुए मौसम विभाग ने रेड अलर्ट जारी कर दिया है। रविवार को मौसम विभाग ने इस बारे में ऑरेंज अलर्ट जारी किया था लेकिन सोमवार को इसे बदलकर रेड कर दिया गया। मनपा आपदा प्रबंधन विभाग के मुताबिक, राज्य सरकार ने मनपा को तूफान से बचाव के लिए कई सुझाव दिए हैं। मनपा से यह तय करने को कहा गया है कि जिन अस्पतालों में कोरोना मरीजों का इलाज हो रहा है, वहां की बिजली न जाने पाए। इसके लिए अतिरिक्त व्यवस्था की जाए। खुले मैदान में बने कोविड सेंटरों की मजबूती को देखकर ही मरीजों को वहां भर्ती किया जाए। वहां भर्ती मरीजों को जरूरत पड़ने पर कहीं और शिफ्ट करने की तैयारी रखी जाए। जिन निचले इलाकों में पानी भरने की आशंका है, वहां जरूरत पड़ने पर फंसे हुए लोगों को निकालने के लिए क्विक रिस्पॉन्स टीम तैयार रखी जाए। इसके अलावा सभी २४ वार्ड के सहायक मनपा आयुक्तों को निर्देश दिया है कि वे अपने अपने वार्ड के अधीन आनेवाले इलाकों में होनेवाले खतरे को भांपते हुए वहां के लोगों को सुरक्षित जगह या मनपा स्कूलों में स्थलांतरित करें।
मुंबई में एनडीआरएफ की ३ टीमें तैनात
मुंबई को निसर्ग तूफान से बचाने के लिए नेशनल डिजास्टर रिस्पांस फोर्स (एनडीआरएफ) की ३ टीमें तैनात की गई हैं। राज्य के अन्य हिस्सों में ६ टीमें भेजी गई हैं। इन टीमों को तटीय इलाकों में तैनात किया गया है। मुंबई के अलावा पालघर में दो और ठाणे, रायगड, रत्नागिरी और सिंधुदुर्ग में एक-एक टीम तैनात की गई हैं। ये टीमें महाराष्ट्र सरकार, बीएमसी, मौसम विभाग और जिला प्रशासन से लगातार संपर्क में हैं। बीएमसी अधिकारी ने बताया कि मुंबई फायर ब्रिगेड के जवानों को किसी भी स्थिति से निपटने के लिए तैयार रहने को कहा गया है। बचाव दल को समुद्र के किनारे पर तैनात रखा जाएगा।
क्रेन हटाओ
निसर्ग तूफान को देखते हुए मनपा आयुक्त ने सभी भवन निर्माताओं को भी सतर्क किया है। आयुक्त ने सुरक्षा के लिहाज से निर्माण कार्य स्थलों से क्रेन, लिफ्ट को स्थलांतरित करने के अलावा बांबू की परधी को भी हटाने का आदेश दिया है। इमारत की सुरक्षा को निश्चित करने का भी निर्देश आयुक्त ने दिए है।

अलीबाग से टकरा सकता है चक्रवात
पुणे के मौसम विभाग के डॉक्टर अनुपम कश्यपी का कहना है कि क्ष्ण्ब्म्त्दहार्‍ग्ेarुa बुधवार को अलीबाग से टकरा सकता है। एक अनुमान के मुताबिक जमीन से टकराने के वक्त इसकी गति १०० किलोमीटर प्रति घंटा हो सकती है। इस वजह से पालघर, पुणे, ठाणे, मुंबई, रायगढ़, धुले और नंदूरबर में तेज बारिश हो सकती है।
विभाग ने ४ जून तक एहतियातन मछुआरों को समुद्र में नहीं जाने को कहा है। आम नागरिकों को भी समुद्र किनारों से दूर रहने, पेड़ और खंभे के नीचे खड़े होने से मना किया गया है। चक्रवाती तूफान के दौरान घरों से बाहर ना निकलने की अपील भी लोगों से की गई है। मुंबई में बड़े औद्योगिक प्रतिष्ठानों और पेट्रोकेमिकल कंपनियों को उचित कदम उठाने के लिए कहा गया है।
चौपाटी पर आपदा प्रतिसाद पथक तैनात
गिरगांव सहित मुंबई के सभी छह चौपाटी पर आपदा प्रतिसाद पथक तैनात किया गया है। इसके अलावा ९३ लाइफ गार्ड, लाइफ बोट, हाजमत टीम को भी आपदा से निपटने के लिए तैनात किया गया है।
क्या करें?
घर के बीचों- बीच रहे।
मजबूत फर्नीचर के नीचे खुद को छिपाये।
घर की कुछ खिड़की बंद रखे और कुछ खुली रखे ताकि प्रेशर बना रहे।
अपने कागजात को प्लास्टिक बैग में हिफाजत से रखे।
टेलीविजन और रेडियो पर आनेवाले आधिकारिक दिशा निर्देशों का पालन करें।