" /> घूमती लाशें!

घूमती लाशें!

जुर्म अनजाने में हुआ हो या जानबूझकर किया गया हो लेकिन जुर्म करनेवाला जुर्म करने के बाद खुद को बचाने की कोशिश जरूर करता है। जब जानबूझकर योजनाबद्ध ढंग से किसी वारदात को अंजाम दिया जाता है तो वारदात को अंजाम देनेवाले लोग अपराध छिपाने और सजा से बचने की तरकीब पहले से ही सोचकर रखते हैं और वे वारदात को उसी योजना के हिसाब से अंजाम देते हैं लेकिन जब कोई घटना अचानक घटती है और ऐसी घटनाओं में किसी की हत्या हो जाती है तो उस वारदात का जिम्मेदार शख्स सजा से बचने का उपाय तुरंत सोच नहीं पाता है। राजस्थान और दुबई में घटी कुछ ऐसी घटनाओं में दो लाशें घंटों कार में एक जगह से दूसरी जगह घूमती रहीं।

पत्नी के चचेरे भाई (साले) की हत्या करनेवाले टैक्सी (वैâब) चालक को राजस्थान पुलिस ने गिरफ्तार किया है। वैâब चालक ने अपने चचेरे ससुर से एक लाख रुपए कर्ज मांगा था लेकिन ससुर ने पैसे देने से इंकार कर दिया था। इसी खुन्नस में वैâब चालक ने ८वीं में पढ़नेवाले अपने चचेरे साले का उस समय अपहरण कर लिया था जब वह हिंदी विषय की परीक्षा देने जा रहा था। रास्ते में वैâब चालक ने टैक्सी में ही साले की गला घोंटकर हत्या कर दी और लाश को टैक्सी की डिक्की में छिपाकर दिनभर यात्रियों को टैक्सी में ढोता रहा और बाद में उसने मौका देखकर एक वीरान जगह पर लाश को फेंक दिया था। जांच में पुलिस को वैâब चालक व मृतक का मोबाइल लोकेशन एक मिली थी। जिसके बाद पुलिसिया पूछताछ में उसने अपना गुनाह कबूल कर लिया था।
लगभग दो साल पहले ऐसी ही एक घटना दुबई में घटी थी, जिसमें एक हिंदुस्थानी युवक ने चरित्र संदेह के कारण अपनी प्रेमिका का गला काटकर खून कर दिया था। बाद में वह प्रेमिका की लाश को कार में अपने बगलवाली सीट पर बैठाकर लगभग ४५ मिनट तक दुबई की सड़कों पर घूमता रहा। इस दौरान उसने एक रेस्टोरेंट से खाना खरीदकर खाया भी। बाद में उसने खुद को दुबई की अल मुरकबत पुलिस के हवाले कर दिया था। यह घटना पिछले साल की जुलाई की है।
दुबई की एक अदालत ने एक ऐसे मामले की सुनवाई की है, जिसमें संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में रहनेवाले एक भारतीय व्यक्ति ने अपनी प्रेमिका की हत्या की और उसके बाद उसकी लाश को कार की आगे की सीट पर रखकर लगभग ४५ मिनट तक शहर की सड़कों पर घूमता रहा। यहां तक कि उसने खुद को पुलिस के हवाले करने से पहले खाना लेने रुका था बाद में जब आरोपी समर्पण करने थाने पहुंचा तो थाने में मौजूद अधिकारियों के हाथ-पांव फूल गए क्योंकि आरोपी के कपड़े खून से सने हुए थे। वह डरा हुआ था लेकिन उसकी बातें सुनकर अधिकारी खुद सकते में आ गए। आरोपी ने अधिकारियों को बताया कि उसने अपनी प्रेमिका की हत्या की है। पुलिस को मृतका का शव पुलिस थाने के बहार खड़ी कार की आगेवाली सीट पर मिला था, उसका गला कटा हुआ था। पुलिस ने कार के पीछेवाली सीट से एक बड़ा-सा चाकू बरामद किया था।

बताया जाता है कि दोनों साथ में
मॉल गए थे। उसे शक था कि उसकी प्रेमिका का किसी अन्य व्यक्ति के साथ संबंध था। इसी बात पर वहां मॉल के बाहर खड़ी कार में दोनों की तेज नोक-झोंक हुई, जिसके बाद तैश में आकर उसने अपनी प्रेमिका का धारदार हथियार से गला रेतकर उसकी हत्या कर दी। हत्या के बाद आरोपी पास के रेस्टोरेंट से खाना और पानी की एक बोतल लेकर शहर में लगभग ४५ मिनट तक गाड़ी घुमाता रहा। बाद में उसने समर्पण का निर्णय लिया। आरोपी पर सोची-समझी साजिश के तहत हत्या का आरोप लगाया गया है और अभियोजन पक्ष ने मौत की सजा की मांग की है। दुबई अदालत में घटना की पहली सुनवाई रविवार को शुरू हुई। इस मामले में एक २७ वर्षीय भारतीय के ऊपर अपनी प्रेमिका की हत्या के आरोप हैं।