चर्च पर क्रॉस!, आईसिस के निशाने पर मुंबई के गिरजाघर

श्रीलंका के चर्च को दहलाने के बाद अब आतंकियों के रडार पर मुंबई के चर्च हैं। जिस तरह फिल्मों में विलेन अपने शिकार की तस्वीर पर क्रॉस का निशान मारता है, कुछ उसी तर्ज पर आतंकियों ने अब मुंबई के चर्चों को अपना टार्गेट बनाने का मंसूबे बनाया है। सुरक्षा एजेंसियों ने पुलिस को हला ही में यह जानकारी दी है आतंकी संगठन आईसिस अब मुंबई के गिरजाघरों को निशाना बनाने की फिराक में है। श्रीलंका में हुए घटना की पुनरावृत्ति न हो इसलिए हाल ही में मुंबई पुलिस आयुक्त और सभी चर्चों के बीच एक बैठक हुई। इस बैठक में मुंबई के चर्चों में सुरक्षा को लेकर कई अहम पैâसले भी लिए गए हैं। चर्चों में ट्रिपल लेयर सुरक्षा तैयार करने की तैयारी भी की जा रही है।
बता दें कि मुंबई में लगभग १५० चर्च हैं। इनमें से कई चर्च इतने प्रसिद्ध हैं कि विदेशों से आनेवाले पर्यटक भी वहां प्रार्थना के लिए आते हैं। ऐसे में चर्च में आनेवाले सभी श्रद्धालुओं की सुरक्षा की जिम्मेदारी भी वहां के प्रशासन की है। रोमन वैâथोलिक चर्चों का प्रतिनिधित्व करनेवाली ‘आर्चडाइसिस ऑफ बॉम्बे’ के वरिष्ठ प्रवक्ता ने नाम न छापने के शर्त पर बताया कि हाल ही में मुंबई पुलिस आयुक्त के साथ हुई बैठक में चर्च की सुरक्षा बढ़ाने और खामियों को दूर करने पर चर्चा हुई। उन्होंने `दोपहर का सामना’ से कहा कि हमने सारे चर्च के प्रतिनिधियों से बात कर उनकी सुरक्षा को लेकर कुछ दिशा-निर्देश जारी किए हैं, जैसे चर्च के गेट पर सीसीटीवी लगाने, सुरक्षाकर्मियों द्वारा चेकिंग करने, खासकर जो लोग नए हैं या फिर उनके पास कोई बैग है। इतना ही नहीं, हम ऐसी तकनीक का इस्तेमाल करनेवाले जो सुई से लेकर आरडीएक्स तक को भांप सकता है। दूसरी मुंबई के मशहूर चर्चों में से एक माहिम चर्च के सुरक्षा प्रबंधक ओ. रोड्रिग्ज ने बताया कि श्रीलंका के चर्चों पर हमले के बाद हमने चर्च की सिक्योरिटी काफी बढ़ा दी है। नए व अनजान लोगों की गेट पर ही तलाशी ली जा रही हैं। सीसीटीवी के माध्यम से चर्च के परिसर में हो रही गतिविधियों पर भी नजर रखा जा रहा है। जल्द ही मेटल डिटेक्टर प्रवेश द्वार पर लगाया जाएगा। इसी के साथ महिलाओं की चेकिंग करने के लिए हमने महिला गार्ड की भी नियुक्ति की है।
चर्च में कैमरा पुलिस स्टेशन में वीडियो
आर्चडाइसिस ऑफ बॉम्बे के वरिष्ठ प्रवक्ता ने बताया कि पुलिस के साथ सुरक्षा को लेकर हुई चर्चा में सभी चर्चों को यह कहा गया है कि वें अपने चर्च के गेट पर सीसीटीवी लगाएं जिसका सीधा प्रसारण चर्च के साथ-साथ स्थानीय पुलिस स्टेशन में भी किया जाएगा, ताकि पुलिस भी समय-समय पर निरीक्षण कर सके।
आरडीएक्स पकड़ेगा
आर्चडाइसिस ऑफ बॉम्बे के अंतर्गत आनेवाले चर्चों में ऐसी तकनीक का इस्तेमाल करने की बात की जा रही है जो सुई से लेकर आरडीएक्स तक पकड़ सके। यह उपकरण चर्च के गेट पर लगाया जाएगा। ऐसे में यदि कोई आरडीएक्स जैसा विस्फोटक लेकर चर्च में घुसता है तो तुरंत उसका संकेत सिक्योरिटी विभाग के फोन पर जाएगा। इसी के साथ अलार्म सिस्टम की तरह यह सबको आगाह करेगा।
चर्च पर रहेगी खुफिया नजर
बैठक में सभी चर्चों की सुरक्षा को बढ़ाने के लिए अतिरिक्त सुरक्षाकर्मी, मेटल डिटेक्टर, हैंड डिटेक्टर खरीदा जाएगा। इसी के साथ पुलिस चर्च को कुछ ऐसे लोग भी देने को तैयार है जो खुफिया तरीके से चर्च में आनेवाले लोगों पर नजर रखेंगे। इसी के साथ सभी चर्चों को यह निर्देश दिया गया है कि चर्च में आने के लिए २ कतार बनाई जाए। एक रोजमर्रा आनेवाले लोगों के लिए और दूसरा उन लोगों के लिए जो सामान के साथ आते हैं।