चित्रकला से शिवराय के दैवत्व का साक्षात्कार

साढ़े पांच तोला सोने का वर्क, तुलसी, भस्म और ११ हजार मंत्रों का जाप करके चित्रकार सचिन जुवाटकर ने छत्रपति शिवाजी महाराज की चतुर्भुज शिव प्रतिमा बनाई। अपने ईश्वर को हम जिस रूप में देखने की कल्पना करते हैं, वह दिव्य रूप, शिवराय की दैवीय शक्ति का दर्शन इस शिव प्रतिमा से हुआ। ऐसे गौरवपूर्ण उद्गार शिवसेनापक्षप्रमुख उद्धव ठाकरे ने व्यक्त किए। चित्रकार सचिन जुवाटकर द्वारा बनाए गए चित्रों की प्रदर्शनी जहांगीर आर्ट गैलरी में आयोजित की गई है।
इस प्रदर्शनी का उद्घाटन तथा उनकी साढ़े तीन वर्षों की मेहनत से बनाई गई शिव प्रतिमा का लोकार्पण उद्धव ठाकरे के हाथों कल किया गया। इस मौके पर उद्धव ठाकरे ने ेaम्प्ग्हरल्न्aूव्ar.म्दस् नामक वेबसाइट का उद्घाटन भी किया। चित्र बनाते समय चित्रकार को कई बातों का ज्ञान होना चाहिए। अपने मन की कल्पनाओं का कुशलतापूर्वक इस्तेमाल करना एक माहिर कलाकार के लिए ही संभव हो सकता है। सचिन ने अपनी कला व ११ हजार मंत्रों के जाप से यह चित्र बनाया। इसे हमें भी संजोना चाहिए, ऐसा लगता है। उनका चित्र कल्पना से परे दर्शन कराता है, ऐसी प्रशंसा उद्धव ठाकरे ने इस मौके पर की। इस दौरान शिवसेना नेता व सांसद संजय राऊत, भारतीय कामगार सेना के महासचिव संदीप राऊत आदि उपस्थित थे।