" /> चीनी नेवी ने दुम दबाई! गलवान झड़प के बाद भारतीय नौसेना को देखकर दूर से ही लौट गए चीनी युद्धपोत

चीनी नेवी ने दुम दबाई! गलवान झड़प के बाद भारतीय नौसेना को देखकर दूर से ही लौट गए चीनी युद्धपोत

चीनी आक्रामकता के खिलाफ भारत बर्फीले पहाड़ों की ऊंचाई से लेकर समुद्र की गहराई तक सीना ताने खड़ा है। एक तरफ भारतीय सेना और एयरफोर्स के जांबाज अक्साई चिन बॉर्डर पर तैनात हैं तो दूसरी तरफ भारतीय नौसेना ने भी अपने आक्रामक रुख और तैनाती से यह सुनिश्चित किया है कि अरब सागर या बंगाल की खाड़ी में कोई चीनी नौसेना का खतरा नहीं है। गलवान झड़प के बाद भारतीय नौसेना ने हिंद महासागर, अंडमान और मलक्का के पास अपनी नौसेना को एकदम अलर्ट कर दिया था। मलक्का के आसपास चीनी युद्धपोत भी चक्कर काटते रहते हैं। मगर भारतीय नौसेना के युद्धपोत देखकर चीनी नेवी ने अपनी दुम दबा ली थी और क्षेत्र से उसके युद्धपोत चुपचाप वापस लौट गए थे।
मुंबई, विशाखापत्तनम और नई दिल्ली में मौजूद सूत्रों के मुताबिक १५ जून को गलवान घाटी में हिंसक झड़प के बाद भारतीय नेवी के युद्धपोतों, विमानवाहक पोतों और पनडुब्बियों ने पूर्वी और पश्चिमी समुद्रक्षेत्र में आक्रामक रुख अपनाया, ताकि किसी चीनी खतरे को खत्म किया जा सके। पीएलए नेवी के युद्धपोत ग्वादर तक एंटी-पायरेसी ऑपरेशन चलाते हैं। उनका मेंटिनेंस और लॉजिस्टिक्स बेस बलोचिस्तान में हैं। पीएलए के युद्धपोत मलक्का स्ट्रेट्स के जरिए हिंद महासागर में भी दाखिल होते हैं।
गलवान में हिंसक झड़प के बाद भारतीय नौसेना ने फॉरवर्ड इलाकों में तैनाती से यह सुनिश्चित किया कि तीन चीनी नेवी युद्धपोत शांति से अदन की खाड़ी में चले गए और तीन युद्धपोत मलक्का जलडमरूमध्य से होते हुए होम बेस तक गए। एक वरिष्ठ कमांडर ने बताया कि एक चीनी युद्धपोत जो इंडोनेशिया के जरिए हिंद महासागर में प्रवेश कर रहा था, वह भारतीय नौसेना की तैयारी देखकर पीछे चला गया।
पीएलए नेवी ने म्यामांर, श्रीलंका, पाकिस्तान, ईरान और पूर्वी अप्रâीका में कई बंदरगाहों पर नियंत्रण में लिया है ताकि न केवल भारतीय नेवी को रोक सके बल्कि, अमेरिकी सेंट्रल कमांड फोर्स के अलावा प्रâेंच और ब्रिटिश नेवी के लिए भी चुनौती पैदा कर सके। म्यामांर के क्योकप्यू बंदरगाह में बीजिंग की ७० फीसदी हिस्सेदारी है, जोकि बंगाल की खाड़ी में है। हम्बनटोटा बंदरगाह दक्षिण श्रीलंका में है और यह हिंद महासागर में चीन की मौजदूगी को मजबूत करता है। पाकिस्तान का ग्वादर पोर्ट ओमान खाड़ी में प्रवेश देता है और ईरान में जस्क बंदरगार अरब खाड़ी के मुहाने पर है। चीन ने इन सभी देशों में भारी मात्रा में कर्ज या दबाव देकर बंदरगाहों को कब्जाया है।
चीनी तैनाती को देखते हुए भारतीय सुरक्षा की प्लानिंग करनेवाले अपनी संप्रभुता वाले १०६२ आइलैंड्स पर अडवांस लैंडिंग ग्राउंड्स बनाने की तैयारी में है। भारत अंडमान निकोबार आईलैंड से लेकर लक्ष्यद्वीप तक सैन्य पैâसिलिटीज को अपग्रेड करने की तैयारी में है। चीनी खतरे का मुकाबला करने के लिए अरब सागर और बंगाल की खाड़ी में इंडियन एयरबेस का नेटवर्क बनाने की तैयारी है ताकि स्वतंत्र नौवहन को बढ़ावा दिया जा सके।