" /> चीन के खिलाफ प्रदर्शन जारी, दुकानदारों ने चाइनीज सामान फूंका

चीन के खिलाफ प्रदर्शन जारी, दुकानदारों ने चाइनीज सामान फूंका

चीन के कायराना हरकत के चलते भारतीय सैनिकों की शहादत से देशभर में लोगों में गुस्सा और गम है। लोग लगातार चीन की निंदा कर रहे हैं और चीनी सामान का बहिष्कार करते नजर आ रहे हैं। कई जगहों पर चीनी सामान का दहन किया गया और शहीदों की याद में कैंडल मार्च निकाला गया। इसके अलावा कई जगहों पर व्यापारियों ने चीन विरोधी नारेबाजी की और शहीदों के लिए २ मिनट का मौन भी रखा।

कैंडल मार्च निकाला
कैंडल मार्च की शुरुआत सिनेमा चौक से पुराना स्टैंड होते हुए समापन भोजपुर बाजार में किया गया। कैंडल मार्च के दौरान एनएच-२१ चंडीगढ़-मनाली से गुजर रही सेना की गाड़ियों में बैठे हुए सैनिकों को देखकर और भी जोश से भर गया। व्यापारियो ने प्रण लिया है कि वो चाईनीज सामान का व्यापार नहीं करेंगे।

चाईना निर्मित सामान ना मंगवाएं
वर्तमान में जहां कोरोना महामारी ने देश सहित विश्व के लिए एक खतरा बन गया है। चीनी सेना का हमारे सैनिकों पर हमला करना एक निंदनीय कृत्य है। इसे लेकर व्यापारी मंडलों ने सभी व्यापारियों से निवेदन करते हुए कहा कि व्यापारी भविष्य में कोई चाईना निर्मित सामान न मंगवाए और न ही उसे बेचें। एशिया में भारत चीन का सबसे बड़ा बाजार है और यहां से जो पैसा चीन जाता है वह सीमा पर हमारे सैनिकों पर हमला करने में खर्च करते हैं।

चीनी सामान फूंका
विभिन्न संगठनों ने शिमला में शहीद जवानों को श्रदांजलि दी तो वहीं शहर के दुकानदारों ने चीनी वस्तुओं का सामान जलाकर चीन का बहिष्कार किया। रामबाज़ार के दुकानदारों ने चीनी वस्तुओं को एक जगह एकत्र कर जला दिया। दुकानदारों ने चीन सामानों को जलाते हुए चीन के विरोध में जमकर नारेबाजी भी की। दुकानदारों का कहना है कि गलवान घाटी में भारतीय सेना के साथ हुए अमानवीय घटना को भारतीय सेना जरुर जवाब देगी।

चीनी सामानों का बहिष्कार हो
हिंदुस्थान मेरी मातृभूमि है। अपनी भारत माता की रक्षा के लिए हमारे सैनिक दुश्मनों को मारने के लिए सक्षम हैं। चीन और चीनी सामानों का बहिष्कार हो। -विपुल पाटील

चीन का होगा नुकसान
चीन की नफरत हिंदुस्थान के लिए कितनी है ये पता चल गया। ये नया हिंदुस्थान है। जितनी ताकत लगाओगे उससे ज्यादा नुकसान पाओगे।
-नमिता नाईक

पछताएगा चीन
हिंदुस्थानी ने अगर ठान लिया कि चीन का कोई सामान नहीं खरीदेंगे तो चीन ऐसे ही भूखा मरने लगेगा। हिंदुस्थानी शांत है तो उसे शांत रहने दो। वर्ना चीन बहुत पछताएगा। -कविता घाडी

सेना को मिले खुली छूट
हमें लगता है कि अब चीन को मुंहतोड़ जवाब देने का समय आ गया हैं।इसके लिए केंद्र सरकार को चीन से समस्त व्यापारिक संबंध समाप्त कर लेना चाहिए।साथ ही हमारा भी दायित्व है कि हम आज से ही चीन निर्मित वस्तुओं का बहिष्कार करें। साथ ही सेना को खुली छूट भी मिलनी चाहिए कि वो जरूरत के हिसाब से बल का प्रयोग कर सके। -मुकेश शाहू

चीनी ऐप्स का भी हो बहिष्कार
हिंदुस्थान से सभी प्रकार के चीनी सामानों का फौरन बहिष्कार होना चाहिए। न सिर्फ बाजार से खरीदी हुई वस्तुएं बल्कि हमें मोबाइल के ऐप्स का भी बहिष्कार करना चाहिए। इससे चीन को सबक मिलेगा।
-निखिल द्विवेदी

कड़ा जवाब देना होगा
चीन द्वारा भारतीय सेना पर हमला करने के लिए इस्तेमाल किए गए हथियार यह दिखाते हैं कि चायना एक ऐसे लोगों का देश है, जिनके मन में मानवता के लिए कोई जगह नहीं है। भारत को इन गद्दारों को कड़ा जवाब देना होगा। -शैली झा

सबक सिखाना ही होगा
हिंदुस्थान को यह बात पहले से ही समझ लेनी चाहिए थी कि चीन पीछे से हमला करने वाले देशों में से एक है।चीन पर किसी भी परिस्थिति में विश्वास करना हिंदुस्थान के लिए एक बहुत बड़ा खतरा है। चीन को अच्छा सबक सिखाना ही होगा। -योगिता शर्मा

देशी सामानों का उपयोग करें
देश और सेहत दोनों के लिए ही चीनी वस्तुएं खतरनाक है। इसलिए हमें खाने में गुड़ और वस्तुओं में देशी सामानों का उपयोग करना चाहिए। चीन के कारण विश्व भर में लोग मर रहे हैं। चीनका बहिष्कार करना बहुत जरूरी है। -मुकेश योगी

चीनी माल लेना बंद करो
सरकार को चीन का माल लेना बंद कर देना चाहिए। चीनी लोग हमसे पैसा कमा कर हमारे ही सैनिकों को मारते हैं। अगर लोग चीनी वस्तुओं का बहिष्कार कर देंगे तो चीन अपने आप बर्बाद हो जाएगा। -शुभम पांडेय

अपनी शक्ति दिखाएं
भारत ने सदैव वसुधैव कुटुम्बकम की भावना को पुष्ट किया है।भारत ने चीन की ओर भी सदैव मित्रता का हाथ बढ़ाया,लेकिन चीन ने सदैव भारत को धोखा ही दिया है। आज हमारा यह कर्तव्य है कि अपनी सेना का मनोबल बढ़ाए और चीनी सामानों का बहिष्कार कर अपनी संगठन शक्ति दिखाएं। -आस्था पाठक

भारत को आत्मनिर्भर बनना होगा
अगर भारत आत्मनिर्भर तुरंत बन जाता है तो चीन पर इसका सीधा प्रभाव पड़ेगा। देश पहले से ही कोरोना संक्रमण से जूझ रहा है, ऐसी परिस्थितियों में चीन सीमा विवाद करके हमें उलझाना चाहता है। -मोहम्मद हदीस सिद्दीकी

कब्जे का ख्वाब देख रहा है
चीन द्वारा गलवान घाटी में धोखे से की गई सैन्य कार्यवाही उसके दोगलेपन और विस्तारवादी नीति का ज्वलंत उदाहरण है। अतिक्रमण कर भारतीय सरजमीं पर कब्जा करने का ख्वाब वह हमेशा देखता रहता है। चीन ने अपने हरकत से दशकों पुराने भरोसा और मजबूत संबंधों में जहर घोलने का काम किया है।
-दुर्गेश मिश्रा

कुर्बानी व्यर्थ न जाए
अपनी मिट्टी को बचाने के लिए हमारे वीर जवान कुर्बान हो गए। अब भारत को हिंदी चीनी भाई भाई का नारा छोड़ना होगा और अपनी नीतियों में बदलाव भी करना होगा। सरकार को ताइवान एवं तिब्बत का खुल कर समर्थन करना चाहिए, जिससे चीन को क्षति पहुंचे। जवानों की कुर्बानी व्यर्थ नही जाना चाहिए।
-मनमीत निर्मल

घुसकर मारेंगे
हम चीन जैसे देश से डरने वाले नहीं त् चीन के कायराना हमले से हमारे देश में बहुत नुकसान हुआ है। हिंदुस्थानी सेना दुश्मनों को जवाब देना अच्छी तरह से जानती है।समय आने पर घुसकर मारेगी।
-वैशाली मुणगेकर

चीन का निषेध
मेरा भारत ,मेरी मातृभूमि ।अगर किसी ने हमारी जमीं पर बुरी नजर डाली तो उसका हिसाब हमारी सेना करेगी। सबको भड़काने का काम मत करें चीन। वर्ना एक दिन पूरी दुनिया चीन के खिलाफ एकजुट होगी। हम सब युवा चीन का निषेध करते हैं।
-राज सोनावणे