" /> चीन पर भड़का जर्मनी! कोरोना से नुकसान का भेजा बिल

चीन पर भड़का जर्मनी! कोरोना से नुकसान का भेजा बिल

कोरोना वायरस महामारी स्वास्थ्य संकट के साथ ही अब वैश्विक गतिरोध की वजह बनता जा रहा हैl दुनिया के तमाम देश वायरस के पीछे चीन की साजिश बता रहे हैं। अमेरिका ने खुलेआम धमकी तक दे डाली है और अब जर्मनी ने तो चीन से भारी-भरकम हर्जाना भी मांग लिया है यानी कोरोना के जनक माने जानेवाले चीन के पीछे दुनिया पड़ गई है।

अमेरिका के अलावा कई यूरोपीय देशों की तरह जर्मनी भी चीन को ही कोरोना वायरस फैलने के लिये जिम्मेदार मान रहा हैl जर्मनी में अब तक करीब डेढ़ लाख कोरोना केस आ चुके हैं और यहां 4500 से ज्यादा लोगों की मौत हो चुकी हैl कोरोना प्रभावित देशों में अमेरिका, इटली, स्पेन और फ्रांस के बाद जर्मनी पांचवें नंबर पर है यानी जर्मनी में भी कोरोना ने भारी तबाही मचाई है> इस तबाही से गुस्साए जर्मनी ने चीन से हिसाब चुकता करने के लिये कहा हैl जर्मनी ने चीन को 149 बिलियन यूरो का बिल भेजा है, ताकि कोरोना वायरस से हुये नुकसान की भरपाई की जा सकेl इसमें 27 बिलियन यूरो टूरिज्म से हुये नुकसान, 7.2 बिलियन यूरो फिल्म इंडस्ट्री, जर्मन एयरलाइंस और छोटे बिजनेस को हुये 50 बिलियन यूरो के नुकसान का बिल चीन को भेजा गयाl इससे पहले डोनाल्ड ट्रंप ने कहा था कि अगर चीन कोरोना वायरस फैलाने का जिम्मेदार पाया गया तो उसे याद रखना चाहिये इसके नतीजे इसे भुगतने पड़ेंगे।

हालांकि, चीन की तरफ से बार-बार सफाई दी जा रही हैl यहां तक कि वुहान की जिस लैब को लेकर आरोप लग रहे हैं, उसके इंचार्ज भी ये कह चुके हैं कि इस वायरस को बनाया नहीं जा सकता है यानी जर्मनी ने बाकायदा कोरोना वायरस से हुआ अपना पूरा नुकसान तो गिनाया ही है, साथ ही चीन को इसका बिल भी भेज दिया हैl जर्मनी ने जहां बिल भेजा है तो अमेरिका जांच टीम भेजने को तैयार बैठा हैl रविवार को व्हाइट हाउस में प्रेस कॉन्फ्रेंस करते हुये अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि वुहान से कोरोना की शुरुआत हुई और चीन से हम खुश नहीं है।  ट्रंप ने कहा कि अमेरिका इस बात की जांच कर रहा है कि क्या यह जानलेवा वायरस चीन की लैब से पैदा किया गया है। इसके लिये हम चीन जाना चाहते हैं और समझना चाहते हैं कि आखिर हुआ क्या है? बहरहाल, चीन सबके घेरे में है. खासकर, यूरोप और अमेरिका के निशाने पर चीन है, जहां इस जानलेवा वायरस ने सबसे ज्यादा तबाही मचाई हैl पूरी दुनिया में कोरोना की वजह से 1 लाख 65 हजार से ज्यादा जान गई हैं और इनमें से एक लाख से ज्यादा मौत यूरोपीय देशों में हुई है, वहीं ब्रिटेन भी चीन की भूमिका से साफ तौर पर इनकार नहीं कर रहा है। ऐसे में कोरोना का केंद्र रहा चीन अब दुनिया के निशाने पर आता जा रहा है।