चुनाव कर्मचारियों की लापरवाही मतदाता होंगे मतदान से वंचित, नहीं बंटी मतदान पर्ची

लोकसभा चुनाव में शत-प्रतिशत मतदान कराने के लिए जहां चुनाव आयोग विभिन्न उपाय योजना कर रहा है, वहीं क्षेत्रीय चुनाव कर्मचारियों की लापरवाही इतनी हो गई है कि कई जगह मतदाता मतदान से वंचित रह जाएंगे। उपनगरीय झोपड़पट्टी बाहुल्य इलाकों में कर्मचारियों की लापरवाही आसानी से देखी जा सकती है।
बता दें कि नए मतदाताओं में जोश भरने के लिए चुनाव आयोग ने ‘सेल्फी मूव’ अपनाया है, वहीं दिव्यांग मतदाताओं के लिए वाहनों की सुविधा तक उपलब्ध कराई है। इसके अलावा बुजुर्गों के लिए पालखी के साथ ही अन्य मतदाताओं को जागरूक करने के लिए फ्लैश मॉब आदि योजनाएं चुनाव आयोग द्वारा अमल में लाई गई हैं लेकिन इसके विपरीत क्षेत्रीय चुनाव कर्मचारी चुनावी प्रक्रिया में लापरवाही बरत रहे हैं। मानखुर्द-शिवाजीनगर विधानसभा क्षेत्र के अंतर्गत झोपड़पट्टी बाहुल्य इलाके आते हैं, यहां स्थिति ऐसी है कि अभी तक अधिकांश मतदाताओं के पास मतदान पर्ची नहीं पहुंच पाई है। अधिकांश मतदान पर्ची में मतदाताओं के सही पते का उल्लेख तक नहीं है। इन इलाकों में अधिकांश मतदाताओं तक मतदान पर्ची न पहुंचने की वजह कर्मचारी बताए जाते हैं। कर्मचारी इसे बांटने में स्वयं दिलचस्पी नहीं ले रहे हैं। इस संबंध में शिकायत मिलने के बाद भी स्थानीय चुनाव अधिकारी इसे अनदेखा कर रहे हैं। चुनाव अधिकारियों का रवैया ऐसा है कि वे शिकायतकर्ताओं के साथ ही दुर्र्व्यव्यवहार करते हैं। हालांकि इस संबंध में उपनगर के जिलाधिकारी सचिन कुर्वे से पूछा गया तो उन्होंने इस पर ध्यान देने की बात कही।