चुनाव के बाद चव्हाण का चांस नहीं, बनेगा नया प्रदेशाध्यक्ष

लोकसभा चुनाव परिणाम आने के बाद प्रदेश अध्यक्ष पद पर अशोक चव्हाण बने रहेंगे। इसका चांस नहीं दिखाई दे रहा है। इसलिए नया प्रदेश अध्यक्ष बनने की चर्चाएं जोर पकड़ने लगी हैं। लोकसभा चुनाव परिणाम महाराष्ट्र में कांग्रेस-राकांपा के अनुकूल आएगा। इसकी संभावनाएं दूर-दूर तक नहीं दिखाई दे रही हैं। चुनाव परिणाम प्रतिकूल आने पर चव्हाण के इस्तीफे की मांग उठना लाजिमी है। पूर्व मुख्यमंत्री विलास राव देशमुख के करीबी रहे वरिष्ठ कांग्रेसी नेता व पूर्व मंत्री बालासाहेब थोरात ने राधाकृष्ण विखे पाटील के खिलाफ आवाज उठाकर विधानसभा विरोधी दल नेता पद के साथ-साथ प्रदेश अध्यक्ष पद का भी दावा ठोक दिया है। बताया जाता है कि महाराष्ट्र के प्रभारी मल्लिकार्जुन खरगे की अध्यक्षता में जल्द ही विधानसभा विरोधी दल नेता पद के लिए बैठक होनेवाली है। इस बैठक में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर रखकर विरोधी दल नेता के नाम का चयन किया जाएगा। जिसकी छवि साफ सुथरी हो।
विरोधी दल नेता पद के लिए पूर्व मुख्यमंत्री पृथ्वीराज चव्हाण का नाम अग्रिम पंक्ति में है। इसके अलावा विजय वडेट्टीवार व थोरात के नाम की भी चर्चा है। कांग्रेस के एक वरिष्ठ नेता के मुताबिक बालासाहेब थोरात को प्रदेशाध्यक्ष बनाया जाएगा और पृथ्वीराज चव्हाण, वडेट्टीवार में से किसी एक को विरोधी दल नेता बनाया जाएगा। चूंकि बालासाहेब थोरात विरोधी दल नेता व प्रदेश अध्यक्ष दोनों के दावेदार हैं। इसलिए उनको अध्यक्ष पद देकर शांत किया जाएगा। ऐसी कांग्रेस गलियारे में चर्चा है।
बता दें कि शिर्डी में हुई लोकसभा चुनाव की चुनावी सभा के बाद कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने बालासाहेब थोरात के यहां ठहरे थे। जिसकी जोरदार चर्चा थी।