चुराए गए बच्चों को गाड़ देता था गिरोह, पुलिस को गुमराह कर रहे अपहर्ता?

मादक पदार्थों की तस्करी, नकली नोटों का कारोबार, देश विरोधी गतिविधियों का संचालन जैसी आपराधिक गतिविधियों के लिए हमेशा सुर्खियों में रहनेवाला मुंब्रा इन दिनों बच्चा चोरी करने तथा उन्हें मारकर दफना देने को लेकर सुर्खियों में है। पुलिस ने बच्चा चोरों के जिस गिरोह का भंडाफोड़ कर दो महिलाओं सहित चार आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। पूछताछ में आरोपी पुलिस को गुमराह कर रहे हैं। पुलिस तीन दिनों से गड्ढे खुदवा रही है। पुलिस सच का पता लगाने लिए मेहन त कर रही है।
उल्लेखनीय है कि मुस्लिम बहुल मुंब्रा तथा कलवा से मासूम बच्चों की चोरी के मामले लगातार प्रकाश में आ रहे हैं। आधे दर्जन से अधिक बच्चे उक्त परिसरों से चुराए जा चुके हैं। पुलिस इनका अभी तक पता नहीं लगा सकी है। मंगलवार को सुबह कौसा के ठाकुर पाढ़ा स्थित हाफिज चाल निवासी एक महिला का डेढ़ वर्षीय बच्चा उस समय चोरी कर लिया गया, जब वह घर के बाहर पानी भरने में मशगूल थी। पानी भर रही महिला को जैसे ही बच्चे के गायब होने की जानकारी मिली, वैसे ही पूरे परिसर में चीख-पुकार मच गई। कुछ लोगों ने एक महिला को बच्चे के मुंह पर कपड़ा बांधकर जाते हुए देखा था। जो महिला बच्चे को चुराकर ले गई थी उसकी पहचान आफरीन नामक एक १८ वर्षीय युवती के रूप में की गई। पड़ोस में रहनेवाली आफरीन की मां से जब लोगों ने कड़ाई से पूछताछ की तो वह घुमाती रही पर पुलिस ने आफरीन को उस वक्त मुंब्रा स्टेशन से गिरफ्तार कर लिया, जब अपहृत बच्चे को दूसरे दो लोगों को सौंपने के लिए वह उनका इंतजार कर रही थी। डायघर पुलिस ने आरोपी आफरीन उसकी मां तथा दो अन्य लोगों को गिरफ्तार कर लिया है।

खोदे जा रहे हैं गड्ढे
पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने दिल दहला देनेवाले खुलासे किए हैं। १० से १२ बच्चो के अंगों को निकाल कर उन्हें मौत के घाट उतार देने तथा उनके शवों को जमीन में दफना देने का गुनाह आरोपी महिला आफरीन ने कबूल कर लिया है। आफरीन के बयान के आधार पर भारी संख्या में पुलिसकर्मियों, अधिकारियों तथा वन विभाग के कर्मचारियों की मौजूदगी में जेसीपी की मदद से गड्ढे खोदने का काम लगातार चल रहा है। अब तक तीन जगहों पर गड्ढे खोदे जा चुके हैं पर कोई शव या मानव कंकाल बरामद नहीं हो सका है। आरोपी आफरीन पुलिसवालों को जंगलों में घुमा रही है और गड्ढे खुदवा रही है।