चेन पुलिंग से मिला चैन : सनी देओल, करिश्मा कपूर को सेशन कोर्ट ने किया बरी

चेन पुलिंग मामले में सनी देओल और करिश्मा कपूर को चैन मिल गया है क्योंकि अदालत ने दोनों को बरी कर दिया है। यह २२ साल पुराना मामला है। खबर के मुताबिक जयपुर की एक सत्र अदालत ने यह पैâसला सुनाते हुए दोनों को राहत दी। जज पवन कुमार ने अपने फैसले में कहा कि रेलवे मजिस्ट्रेट ने सनी और करिश्मा को उन्हीं धाराओं के तहत आरोपी बनाया है, जिन्हें कि २०१० में सेशन कोर्ट खारिज कर चुका था। दोनों के खिलाफ सबूतों का अभाव है इसलिए उन्हें आरोपों से बरी किया जाता है।
बता दें कि सनी देओल और करिश्मा कपूर ने १९९७ में फिल्म `बजरंग’ की शूटिंग के दौरान राजस्थान के नरेना रेलवे स्टेशन पर कथित तौर पर २४१३-ए अपलिंक एक्सप्रेस की चेन खींचकर इमरजेंसी ब्रेक लगाया था। इस वजह से ट्रेन करीब २५ मिनट लेट हुई थी। उस वक्त स्टेशन मास्टर सीताराम मलाकार ने फिल्म से जुड़े सदस्यों के खिलाफ रेलवे पुलिस में केस दर्ज कराया था। सनी और करिश्मा के खिलाफ २००९ में रेलवे कोर्ट ने आरोप तय किए थे। दोनों ने २०१० में इसे सेशन कोर्ट में चुनौती दी थी। तब उन्हें बरी कर दिया गया था लेकिन १७ सितंबर २०१९ को रेलवे कोर्ट ने दोनों के खिलाफ फिर से रेलवे एक्ट की धारा १४१ (अनावश्यक रूप से ट्रेन जैसे संचार के साधनों में हस्तक्षेप), धारा १४५ (नशा या उपद्रव), धारा १४६ (एक रेलवे कर्मचारी को उसका काम न करने देना) और धारा १४७ (बिना अनुमति प्रयोग) के तहत आरोप तय किए थे। रेलवे कोर्ट के इसी पैâसले के खिलाफ दोनों ने सेशन कोर्ट में याचिका दायर की थी। इस मामले में स्टंटमैन टीनू वर्मा और सतीश शाह के खिलाफ भी २०१० में आरोप तय किए गए थे लेकिन इन दोनों ने इसे चुनौती नहीं दी थी।