" /> छत्तीसगढ़ में फंसे कल्याणवासियों ने सरकार से की मदद की गुहार

छत्तीसगढ़ में फंसे कल्याणवासियों ने सरकार से की मदद की गुहार

ध्यान शिविर के लिए लॉकडाउन से पूर्व छत्तीसगढ़ गए कुल 8 लोग पिछले एक माह से वहीं पर फंसे हुए हैं। फंसे हुए लोगों ने महाराष्ट्र सरकार तथा छत्तीसगढ़ सरकार से घर भेजने की व्यवस्था करने की मांग की है लेकिन अब तक कोई नतीजा सामने नहीं आया है। कल्याण के अलावा भंडारा के भी कुछ लोग वहां पर फंसे हुए हैं।
कल्याण के रहनेवाले ये सभी लोग 14 मार्च को महासमुंद जिले के बिरबिरा-तुम गांव में 16 से 25 मार्च तक चलनेवाले ध्यान शिविर में भाग लेने गए थे। 27 मार्च को इनका वापसी का टिकट था लेकिन 24 मार्च से ही लॉकडाउन घोषित होने के कारण सभी वहां फंस गए। दोनों राज्य सरकारों से इन्होंने वापस भेजने का प्रबंध करने का निवेदन किया लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। सत्यवान बोरकर, इंदुमती बोरकर, प्रभाकर खरात, मीना खरात, महेंद्र बड़सागरे, स्वेता पगारे, ज्योत्सना जाधव तथा माधुरी कांबले ये सभी छत्तीसगढ़ में फंसे हुए हैं। इनके अतिरिक्त भंडारा जिले के भी चार लोग वहां पर फंसे हैं, जिन्हें जल्द ही सरकारों से अपने घर भेजे जाने की उम्मीद है।