" /> सफल रही लॉकडाउन की रणनीति : छह जिले में कोरोना का है 1.13 प्रतिशत

सफल रही लॉकडाउन की रणनीति : छह जिले में कोरोना का है 1.13 प्रतिशत

राज्य की सर्व सामान्य जनसंख्या में कोरोना संसर्ग का प्रतिशत अत्यल्प

भारतीय स्वास्थ्य संशोधन परिषद (आईसीएमआर) की तरफ से पिछले महीने देश के 83 जिलों में कोरोना को लेकर एक समुदाय आधारित सर्वेक्षण किया गया था। इसमें नगर, बीड, जलगांव, परभणी, नांदेड़ और सांगली जिले शामिल थे। राज्य के छह जिलों में सकारात्मक रोगियों की संख्या 1.13 पाई गई है। सर्वेक्षण में पाया गया कि राज्य की सामान्य आबादी में कोरोना संक्रमण दर बहुत कम है और लॉकडाउन रणनीति सफल रही है। राज्य में बहुसंख्यक आबादी कोरोना इम्युनिटी, कोरोना रोकथाम और नियंत्रण, भौतिक दूरी, हाथ स्वच्छता, श्वसन पथ स्वच्छता, लगातार स्पर्श सतह स्वच्छता और प्रभावी सर्वेक्षण और आइसोलेशन की कठोर रोकथाम नीति पर ध्यान केंद्रित करना चाहिए, ऐसा स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने कहा।
राज्य की सामान्य आबादी में कोरोना की व्यापकता का पता लगाने के लिए सर्वेक्षण किया गया था। इस जिले में नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी द्वारा विकसित एलिसा पद्धति का उपयोग करते हुए, 10 समूह के प्रत्येक 40 चयनित समूहों में कुल 400 लोगों के रक्त का परीक्षण किया गया था। इससे इन व्यक्तियों के रक्त प्लाज्मा में एंटीबॉडी का पता लगाया गया है। इसके लिए राष्ट्रीय रोग नियंत्रण केंद्र, नई दिल्ली, राष्ट्रीय संक्रामक रोग संस्थान, चेन्नई और राष्ट्रीय क्षय रोग अनुसंधान केंद्र, चेन्नई द्वारा तकनीकी सहायता प्रदान की गई। इस सर्वेक्षण की रिपोर्ट घोषित की गई है। छह जिले की रिपोर्ट इस प्रकार है। बीड में कुल 396 नमूने लिए गए है, जिसमें 4 पॉजिटिव पाए गए हैं। इसका प्रतिशत 1.01, परभणी में कुल 396 नमूने लिए गए हैं, जिसमें से 6 पॉजिटिव मिले, प्रतिशत 1.51, नांदेड़ में कुल 393 नमूने लिए गए, जिसमें 5 नमूने पॉजिटिव, प्रतिशत 1.27,।सांगली में कुल 400 नमूने लिए गए हैं, जिनमें से 5 पॉजिटिव पाए गए हैं, प्रतिशत 1.25, नगर जिले में कुल 404 नमूने लिए गए, जिनमें 5 नमूने पॉजिटिव पाए गए, प्रतिशत 1.23, जलगांव जिले में 396 नमूने लिए गए, जिनमें दो नमूने पॉजिटिव पाए गए हैं, जिसका प्रतिशत 0.5 इस प्रकार कुल 2,385 नमूने लिए गए हैं, उसमें से 27 पॉजिटिव, प्रतिशत 1.13 है।