" /> छुट्टी पर घर लौटनेवाले थे सैनिक!, पाक सेना की फायिंरग में हुए शहीद

छुट्टी पर घर लौटनेवाले थे सैनिक!, पाक सेना की फायिंरग में हुए शहीद

जम्मू-कश्मीर के राजौरी सेक्टर में पाकिस्तान द्वारा किए गए सीजफायर उल्लंघन में शहीद हुए सैनिक नायक अनीश थॉमस कुछ दिन बाद अपने घर लौटनेवाले थे। उनके रिश्तेदार ने बताया कि उन्होंने फोन कर परिवार को छुट्टी के बारे में बताया था। वे चाहते थे कि पत्नी उनके क्वारंटीन के लिए एक रूम तैयार करें। उन्होंने ६ वर्षीय बेटी से भी बात की थी। शहीद जवान का पार्थिव शरीर गुरुवार सुबह त्रिवेंद्रम एयरपोर्ट पहुंचा तो वहां मौजूद लोगों की आंखें नम हो गईं, वहीं हवाई अड्डे पर शहीद सैनिक के लिए पुष्पांजलि सभा का आयोजन किया गया। इसके बाद थॉमस के पार्थिव शरीर को केरल के वायला (कोल्लम) उनके जन्मस्थान ले जाया गया।
बता दें कि १५ सितंबर को पाकिस्तान ने नापाक हरकत करते हुए जम्मू-कश्मीर के राजौरी जिले में नियंत्रण रेखा के पास गोलीबारी की। इस दौरान मोर्टार भी दागे। गोलीबारी में भारतीय सेना के १६ कोर में तैनात जवान नायक अनीश थॉमस शहीद हो गए। साथ ही एक अधिकारी सहित दो अन्य घायल हो गए थे। बताया गया था कि पाकिस्तान ने बिना उकसावे के संघर्षविराम का उल्लंघन करते हुए छोटे हथियारों से गोलीबारी की और मोर्टार दागे। सेना के अधिकारियों ने बताया कि पाकिस्तानी की ओर से गोलीबारी सुंदरबनी सेक्टर में हुई। इसका भारतीय सेना ने मुंहतोड़ जवाब दिया। बता दें कि पाकिस्तान आए दिन सीजफायर का उल्लंघन करता है, जिसमें कई बार भारतीय जवानों को नुकसान उठाना पड़ा है। बता दें कि हिंदुस्थान-पाकिस्तान अंतरराष्ट्रीय सीमा पर सांबा सेक्टर के मंगूचक्क में सोमवार देर रात सीमा पार से आतंकियों की घुसपैठ की बड़ी साजिश को बीएसएफ के जवानों ने नाकाम बना दिया। इसके बाद आतंकी जान बचाते हुए वापस भाग गए। इस बीच बीएसएफ ने उरी में एक घुसपैठिए को मार गिराया।

तीन आतंकियों का काम तमाम
सुरेश एस. डुग्गर / जम्मू
जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर जिले में सुरक्षाबलों के साथ मुठभेड़ में तीन आतंकी मारे गए। इस मुठभेड़ में एक महिला के मारे जाने के बाद श्रीनगर के कई इलाकों में जमकर पत्थरबाजी भी हुई। हिंसा पर उतारू भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को लाठियां भी भांजनी पड़ी और आंसू गैस भी छोड़नी पड़ी। श्रीनगर के बटमालू इलाके में बुधवार देर रात शुरू हुई मुठभेड़ कल सुबह तक जारी रही। पुलिस और सीआरपीएफ के जवानों ने मोर्चा संभाला और आतंकियों को मुंहतोड़ जवाब दिया। सुरक्षाबलों की आतंकियों से मुठभेड़ के बाद बटमालू में स्थानीय युवक भड़क उठे। अचानक कई लोग घरों से निकले और सुरक्षाबलों पर पथराव शुरू कर दिया। भीड़ को तितर-बितर करने के लिए पुलिस को आंसूगैस के गोले दागने पड़े। जम्मू-कश्मीर के डीजीपी दिलबाग सिंह ने तीनों आतंकियों के मारे जाने की पुष्टि करते हुए बताया कि उनके शवों को कब्जे में ले लिया गया है। उनके पास से कई तरह के हथियार भी बरामद किए गए हैं। मुठभेड़ के दौरान एक नागरिक की मौत पर अफसोस जताया और बताया कि सीआरपीएफ के एक डिप्टी कमांडेंट घायल हो गए हैं। कुल आंकड़ों की बात की जाए तो इस वर्ष अब तक ७२ ऑपरेशन चलाए गए, जिनमें १७७ आतंकियों का सफाया हुआ। इनमें पाकिस्तान के भी कई आतंकी शामिल थे।