" /> जनधन का खाता बना जी का जंजाल! मां को खाट पर ले जाना पड़ा बैंक

जनधन का खाता बना जी का जंजाल! मां को खाट पर ले जाना पड़ा बैंक

-ओडिशा में पेंशन के लिए हुई परेशानी
-पीएम मोदी ने डाले थे 500-500 रुपए
-महिला की उम्र थी 100 साल
-बेटी ने बायां की दर्दनाक कहानी

एक बुजुर्ग महिला को खाट सहित घसीटकर ले जानेवाला वीडियो खूब वायरल हो रहा है। इस मामले में अब यह जानकारी सामने आई है कि घटना ओडिशा के नौपारा जिले की है। महिला अपनी 100 साल की मां को इस तरह बैंक ले जा रही थी, ताकि 500 रुपए पेंशन मिल सके।
महिला का दावा है कि बैंक मैनेजर ने फिजिकल वेरिफिकेशन के लिए मां को बैंक तक लाने को कहा था। हालांकि, जिला कलेक्टर का कहना है कि बैंक मैनेजर महिला के घर वेरिफिकेशन के लिए जानेवाला था लेकिन उससे पहले महिला खुद ही इस तरह बैंक पहुंच गई।

सोशल मीडिया पर वायरल हो रहे वीडियो में दिख रहा है कि नौपारा जिले की बरगांव की 60 वर्षीय पूंजीमति देई अपनी मां को खाट पर सुलाकर खाट घसीटती जा रही हैं। वह मां के जनधन खाते में आई पेंशन निकलवाना चाहती थीं। कोरोना वायरस महामारी की वजह से केंद्र सरकार ने महिला जनधन खाताधारकों के अकाउंट में तीन महीने तक 500-500 रुपए जमा किए हैं।

ग्रामीणों का कहना है कि मां लाभे बघेल के खाते में आए 1500 रुपए निकलवाने के लिए 9 जून को देई उत्कल ग्रामीण बैंक के लोकल ब्रान्च में गईं। हालांकि, बैंक मैनेजर अजित प्रधान ने कथित तौर पर उन्हें अकाउंट होल्डर को ब्रांच में लाने को कहा।
देई ने कहा कि उनकी मां खाट से उठ नहीं सकती हैं इसलिए उनके पास खाट को घसीटकर ले जाने के अलावा कोई चारा नहीं था। देई का कहना है कि मां को ब्रांच ले जाने के बाद मैंनेजर ने पेंशन की राशि उन्हें निकालकर दी।

वायरल हो रहे वीडियो पर नौपारा जिले की कलेक्टर मधुस्मिता साहू ने कहा कि मैनेजर ने अगले दिन वेरिफिकेशन के लिए घर आने की बात कही थी लेकिन महिला इससे पहले ही अपनी मां को इस तरह ले आई। डीसी ने कहा कि चूंकि मैनेजर बैंक में अकेले ही काम करते हैं इसलिए उनके लिए उसी दिन जाना मुश्किल था लेकिन उन्होंने अगले दिन आने का वादा किया था।
गौरतलब है कि रिजर्व बैंक कई बार बैंकों को सलाह दे चुका है कि बुजुर्ग और अपंगता के शिकार लोगों को घर पर ही बैंकिंग सुविधाएं मुहैया कराएं।