" /> जम्मू में एक और युवक फंसा पाकी हनी ट्रैप में

जम्मू में एक और युवक फंसा पाकी हनी ट्रैप में

दो माह के अंतराल में जम्मू के दो युवक पकड़े गए पाकिस्तान के लिए जासूसी करते हुए

कश्मीर में उखड़ते पांवों के कारण अब पाक सेना की जासूसी संस्था आईएसआई ने जम्मू संभाग में अपने कदम तेजी से फैलाने आरंभ किए हैं। नतीजतन दो माह के अंतराल में जम्मू में एक और युवक को हनी ट्रैप में फंसा कर उससे जासूसी करवाई जाती रही है। जनवरी में भी एक सीमावर्ती गांव के युवक को पाकिस्तान के लिए जासूसी के आरोप में पकड़ा गया था।

ताजा मामले में आईएसआई के लिए जासूसी करने के आरोप में पकड़े युवक पंकज सिंह के सोशल साइट अकाउंट से पता चला है कि वह हनी ट्रैप का शिकार हुआ है। आईएसआई की महिला एजेंट ने उससे सोशल मीडिया के जरिए दोस्ती की और बाद में व्हाट्सअप के जरिए पंकज से बातचीत करने लगी। महिला एजेंट ने उसे खुफिया जानकारी भेजने के एवज में रुपये लेने के लिए तैयार किया था। पंकज से पहले दोस्ती की गई, उसे फिर से विश्वास दिलाया गया कि नेशनल न्यूज चौनल में उसकी नौकरी पक्की कर दी गई है। पंकज से इसके लिए पुलों व नालों की फोटो और वीडियो बनाने के लिए कहा गया। पंकज उसकी बातों में फंसता गया और फोटो और वीडियो बनाकर जाने-अनजाने में सीमा पार भेजता रहा।

सूत्रों के अनुसार, पंकज शर्मा नरवाल मंडी की एक आढ़त में काम करता है। माना जा रहा है कि वह मंडी में कश्मीर से आने जाने वाले ट्रकों से इधर-उधर होने वाले ओजी वर्करों से भी इसका संबंध हो सकता है। वह सांबा जिले के तरोर का रहने वाला है। पूछताछ में पंकज ने कबूल किया है कि वह पिछले कुछ सालों से पाकिस्तानी एजेंट के रूप में काम कर रहा था। कई महत्वपूर्ण जानकारियां भेजता था। वह हाईवे के पुलों और कई अन्य तरह की जानकारियां भी भेज चुका है। उसके एवज में पैसे मिलते थे।

इससे पहले इसी साल जनवरी के पहले हफ्ते में अंतरराष्ट्रीय सीमा से सटे अरनिया के गांव पोवल के एक युवक को पुलिस ने पाक की खुफिया एजेंसी आईएसआई से संपर्क होने की आशंका में गिरफ्तार किया था। वह सोशल मीडिया के जरिए पाकिस्तान में बैठे एजेंट के संपर्क में था और उन्हें सुरक्षा बलों के शिविरों व मौजूदगी की जानकारी देता था। सोशल मीडिया के जरिए शकीला नामक एक युवती ने उससे संपर्क किया था। युवती ने खुद को पंजाब के पटियाला की रहने वाली बताया था। युवक उस युवती के झांसे में आ गया। फेसबुक के बाद वह वाट्सएप के जरिए बातचीत करने लगे थे और अपने क्षेत्र की जानकारी देता था।

आरोप है कि युवक आईएसआई की महिला एजेंट के साथ सोशल साइट के माध्यम से संपर्क में आया और उसने कई अहम जानकारियां उसके साथ साझा कर डाली। मामला संगीन है और सुरक्षा परिदृश्य गंभीर भी है। यह पहला मामला नहीं है जब देश का युवा पाक की ‘हसीन चाल’ में फंसा हो। इससे पूर्व भी कई मामले सामने आए हैं और पाक की साजिश का राज भी फाश हुआ है।

दरअसल हर मोर्चे पर नाकामी के बाद पाकिस्तान की खुफिया एजेंसी आईएसआई ने अब जम्मू के सीमावर्ती क्षेत्रों में हसीनाओं (हनी ट्रैप) का जाल बिछाया है। सोशल साइट पर सीमांत क्षेत्र के युवाओं को फंसाकर, उनसे दोस्ती कर खुफिया जानकारी जुटाई जा रही है। सुरक्षा एजेंसियां यह भी पता लगाने का प्रयास कर रही हैं कि ये युवक अब तक क्या-क्या जानकारी सीमा पार भेज चुके हैं।