जलाशयों पर ‘मस्ती बंदी’

बदलापुर, अंबरनाथ, उल्हासनगर, मुरबाड़, शहापुर आदि जलाशयों पर मस्ती बंदी की गई है। यह मस्ती बंदी ठाणे के जिलाधिकारी ने की है। मुंबई सहित आसपास इलाके के लोग मौज-मस्ती के लिए जलाशयों पर आते हैं। इस दौरान गहरे पानी में डूबकर जान गवां देते हैं। इन घटनाओं के चलते पुलिस प्रशासन को काफी तकलीफ का सामना करना पड़ता है। तमाम तरह की समस्या से निजात दिलाने के लिए ठाणे के जिलाधिकारी ने ग्रामीण व शहरी पुलिस को आदेश जारी किए हैं कि जुलाई माह तक जलाशयों से एक किलोमीटर तक किसी को भी जाने न दिया जाए।
ठाणे के जिलाधिकारी ने पुलिस को आदेश दिया है कि कोनेश्वर, बारवी डैम, चिखलौली, खडवली के अलावा अन्य जलाशयों पर लोगों को जाने पर बंदी लगाए। जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर का मानना है कि जुलाई माह में तेज बरसात होती है। इस समय लोग नशा कर या फिर नहाते समय पानी के तेज प्रवाह में बह जाते हैं। हर वर्ष दर्जनों लोगों की मौत होती है। जिलाधिकारी के निर्देश पर ग्रामीण पुलिस के अधीक्षक व शहरी परिसर के आयुक्त ने उनके अधिकार में आनेवाले सभी पुलिस स्टेशन को उपर्युक्त आदेश का पालन करने का आदेश दिया है। उल्हासनगर के पुलिस उपायुक्त प्रमोद कुमार शेवाले ने बताया कि उन्होंने उनके अधिकार में आने वाले सभी ८ पुलिस स्टेशन को आयुक्त के आदेश का पालन करने का आदेश दिया है। बदलापुर ग्रामीण पुलिस के पुलिस निरीक्षक निगड़े ने बताया कि उन्होंने कोनेश्वर जलाशय पर एक किलोमीटर की दूरी पर बैरिकेड लगा कर मार्ग बंद कर दिया हैं।