जीवनतंत्र: वस्तु से सुधारो वास्तु!

घर की वस्तुओं को ठीक से रखने या कुछ को हटाने से वास्तु दोष खत्म होता है। वास्तु में व्यवस्था ऐसी हो कि घर में सकारात्मक ऊर्जा बनी रहे। यदि आपके घर में भी टूटे-फूटे बर्तनों की भरमार है तो तुरंत उन बर्तनों को हटा देना चाहिए, इससे वास्तु दोष उत्पन्न होता है। आपके कमरे में भी यदि कोई टूटा हुआ पलंग काफी समय से स्थान घेरे हुए है तो उसको तुरंत वहां से हटे दें क्योंकि इससे आपके वैवाहिक जीवन में कष्ट आ सकता है। घर में टूटे हुए कांच की वजह से परिवार के लोगों को मानसिक कष्ट झेलना पड़ता है। रुका हुआ समय यानी बंद घड़ियां घर के लोगों की उन्नति में बाधक सिद्ध होती हैं। उन्हें बनवा कर घर में रखें या फेंक दें। सप्ताह में एक बार घर में गंगाजल का अवश्य छिड़कें। गाय के गोबर के कंडे और कपूर का धुआं भी समय-समय पर देते रहें, इससे घर में सकारात्मकता बनी रहेगी।

घर का वैद्य
१) काली मिर्च और हल्दी डेंगू के इलाज में काफी मददगार साबित होती है। इसमें एंटी बैक्टेरियल और एंटी इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं इसलिए इन्हें गर्म दूध के साथ लेना फायदेमंद होता है।
२) अदरक में एंटी-इंफ्लेमेट्री गुण होते हैं, जो आर्थराइटिस यानी जोड़ों के दर्द में राहत दिलाता है। पुराने जोड़ों के दर्द में अदरक का रस, अश्वगंधा चूर्ण, शैलाकी चूर्ण, हल्दी का चूर्ण बराबर-बराबर भाग में मिलाकर शहद के साथ सेवन कर बाद में गर्म दूध, चाय या गर्म पानी पीने से जोड़ों के दर्द में लाभ मिलता है।
३) अगर आपको या फिर घर में किसी को भी डेंगू का बुखार है तो ऐसे में नारियल पानी पीना बहुत फायदेमंद रहता है। इसमें एलेक्‍ट्रोलाइट्स, मिनरल और अन्‍य जरुरी पोषक तत्‍व होते हैं जो शरीर को मजबूत बनाते हैं।
४) खांसी, जुकाम, गले में खराश, गला बैठने जैसी स्थिति में अदरक को पीसकर घी या शहद के साथ लेना चाहिए।
५) हिचकी आने पर अदरक के रस का सेवन शहद व तुलसी के साथ करें। सांस के रोगी को शहद के साथ इसका रस देने से कफ पतला होता है, जिससे आराम मिलता है।
६) पुदीने का रस काली मिर्च और काले नमक के साथ चाय की तरह उबालकर पीने से जुकाम, खांसी और बुखार में राहत मिलती है। सिर दर्द में ताजी पत्तियों का लेप माथे पर लगाने से आराम मिलता है।
७) हैजा रोग से पीड़ित व्यक्ति को पुदीना के रस के साथ प्याज के रस में नींबू और सेंधा नमक मिलाकर सेवन करना चाहिए, लाभ होता है।
८) पुदीने की पत्ती और तुलसी की पत्ती के रस में दो बूंद शहद मिलाकर पीने से लगातार आ रही हिचकियां तुरंत बंद हो जाती हैं।
९) पुदीने की पत्तियों को सुखाकर बनाए गए चूर्ण को मंजन की तरह प्रयोग करने से मुंह की दुर्गंध दूर होती है और मसूढ़े मजबूत होते हैं।
१०) तुलसी की पत्तियां डेंगू के घरेलु उपचार में शामिल है। तुलसी की चाय डेंगू रोगी को बहुत आराम पहुंचाती है।

छोटा उपाय, बड़ा काम
 सूर्य को अर्घ्य देने और आदित्यहृदय स्तोत्र का पाठ करने से स्वास्थ्य अच्छा रहता है, दुश्मन कमजोर पड़ते हैं और आत्मविश्वास बढ़ता है।
 बुधवार को गाय को हरी घास खिलाने से बिगड़े हुए काम बनने लगते हैं। बुद्धि का विकास होता है।
 मंगलवार को ऋणमोचन स्तोत्र का पाठ करने से कर्ज कम होता जाता है।
 हर शुक्रवार श्रीसूक्त का पाठ धन के आवक के नए मार्ग खोल देता है।
 हर सोमवार को शिवलिंग पर दुग्धाभिषेक करने से मन की चंचलता समाप्त होकर मन मजबूत व निर्मल बनता है।