जैव विविधता ही प्रकृति का प्रसाद है!

प्रकृति का प्रत्येक अंग परस्परावलंबन में है। कुत्तों और मनुष्य जाति का साहचर्य भी बहुत प्राचीन है। इसका ठीक इतिहास उपलब्ध नहीं है। लेकिन यूनेस्को के अनुसार ऋग्वेद दुनिया का प्राचीनतम ग्रंथ है। ऋग्वेद में कुत्तों का उल्लेख है। कुत्तों से मनुष्य का साथ ऋग्वेद के रचनाकाल से भी प्राचीन होना चाहिए। आदिम मनुष्य शिकारी भी थे। कुत्तों और मनुष्य का साथ शिकार की उपयोगिता के कारण ही नहीं हुआ होगा। पहले साहचर्य हुआ होगा और फिर उनका उपयोग। साहचर्य की शुरुआत खोजना थोड़ा कठिन काम है। ढेर सारे लोग कुत्ते पालते हैं। वे उनसे कोई काम नहीं लेते। वे कुत्तों के साहचर्य में ही आनंदित रहते हैं। कुत्तों का अपने पालक के प्रति प्रेम प्रदर्शन आश्चर्यजनक होता है। वे चूमते हैं, चाटते हैं। सटकर बैठते हैं, प्रसन्न होते हैं, साथ न बैठाओ तो उदास होते हैं। वे डांटने का अर्थ समझते हैं। मनुष्य में संसार से जुड़ने के लिए पांच इंद्रियां हैं। कुत्तों के पास भी आंख, कान, नाक, स्पर्श और स्वाद की पांच ही इंद्रियां हैं लेकिन सूंघने की क्षमता आश्चर्यजनक है और सुनने की भी। कुत्ते अपनी सूंघने की आश्चर्यजनक शक्ति के कारण पुलिस व सेना में भी महत्वपूर्ण भूमिका में हैं।
कुत्ते प्रेम प्रदर्शन से प्रसन्न होते हैं। लेकिन अपने प्रेम प्रदर्शन से प्रसन्नता का आनंदरस उलीचते हैं। कुत्तों के व्यवहार पर तमाम शोध हुए हैं। एक ताजे शोध के अनुसार कुत्तापालकों को हृदयाघात की आशंका कम होती है। यह अध्ययन उचित जान पड़ता है। कुत्तों के साथ खेलते हुए मनुष्य का रक्त संचार प्रसन्न रस से भरता है और प्रसन्न होना ही मनुष्य की सबसे बड़ी अभिलाषा है। प्रसन्नता मनुष्य का अधिकार भी है। प्रसन्न होने के अधिकार में सबको प्रसन्न करने का कर्तव्य जुड़ा हुआ है। प्रसन्नता चक्रानुवर्ती है। देने से वापस होती है। कुत्तापालक कुत्ते को सहलाते हैं। प्रतिदान में यही प्रसन्नता लौटती है लेकिन बिल्ली या खरगोश आदि के साथ ऐसा नहीं होता। मेरे घर में खरगोश, बिल्लीr और कछुआ भी है। खरगोश निकट होते ही भाग जाते हैं, बिल्ली निकटता के कारण ढीठ हो गई है। कछुआ मुंह भीतर कर लेता है। वैरागी जान पड़ता है, खाने के लिए मुंह बाहर करता है, पुचकारते ही मुंह सिकोड़ लेता है। संसार के रिश्ते संभवत: उसे प्रसन्न नहीं है। उसके पूर्वज कच्छप अवतार ने धरती का भार लाद रखा है। हमारे कछुए को यह भार पसंद नहीं। कुत्तों की बात ही दूसरी है। कुत्तों का साहचर्य प्राचीन है।
भारतीय चिंतन परंपरा में यम मृत्यु के देवता हैं। वे जीवन की नियत अवधि के बाद प्राण ले जाते हैं। ऋग्वेद (१०.१४.१२) के अनुसार ऐसे मनुष्यों की खोजबीन में यम की सहायता दो कुत्ते करते हैं। ऋषि ने मृतात्मा से स्तुति (वही १०) की है कि आप दोनों सारमेय-सरमा नाम की कुतिया के पुत्रों के साथ शीघ्र गमन करें।’ बताया है कि यम के दोनों कुते जीवन अवधि समाप्त कर चुके मनुष्यों के प्राण लेने के लिए घूमा करते हैं। ऋग्वेद के मंत्र कविता है। इनमें रहस्य भी हो सकते हैं। यम देव के पास कुत्ते होते हैं? या नहीं होते? यम देवता भी प्रत्यक्ष नहीं है लेकिन ऋग्वेद में कुत्तों का उल्लेख मनुष्य और कुत्तों के साथ का साक्ष्य है। मेरे सहयोगी अजय प्रताप सिंह के साथ १६ बरस से एक कुतिया भी थी। सभी जीवों से अजय का प्रेम गाढ़ा है। मैं ऋग्वेद में सरमा नाम की कुतिया के उल्लेख का उदाहरण देता था। वह मेरे सुबह उठते ही पास आती, मैं सिर पर हाथ रखता वह प्रसन्न होती, चली जाती। मैं रात २ बजे तक लिखता हूं, वह बैठी रहती। प्रतीक्षारत। मैं सोने जाता, वह भी सो जाती। वह हमारी उदासी में उदास रहती और हमारे उल्लास में प्रसन्न।
हम मनुष्य ऐसा प्रेम नहीं करते। जीवन रहस्य समझ में नहीं आते। वह अस्वस्थ हुई। चिकित्सक ने बताया कि वह अब देख नहीं सकती। मैं न देख सकने की पीड़ा का अनुमान कर रहा था। दूसरे दिन उसके प्राण उड़ गए। मैं प्रश्न बेचैन हूं। क्या इसके प्राण भी यम देव के सहयोगी दोनों कुत्ते ले गए होंगे? वे चाहते तो कम से कम अपनी प्रजाति की इस कुतिया की जीवनधारा बढ़ा सकते थे। लेकिन ऐसा नहीं हो सकता। ऋग्वेद के इसी सूक्त (१०.१४.२) में कहते हैं ‘यम देव की नियम व्यवस्था को परिवर्तित करने में कोई सक्षम नहीं है।’ प्रकृति के नियम अपरिवर्तनीय है। प्रकृति की परिवर्तनशीलता भी नियमों में है। चिकित्सक ने भी बताया कि इसकी उम्र पूरी हो गई। इन नियमों से असहमत होने के पक्ष में तर्क दिए जा सकते हैं लेकिन जन्म और मृत्यु का जन्म एक साथ होता है। जन्म और मृत्यु दो नहीं हैं। मन प्रश्न करता है कि मृत्यु के बाद फिर से जन्म भी क्या अपरिहार्य है। हम मनुष्य प्रेम की दिव्यता में प्रसन्न होते हैं। मृत्यु सत्य की अपरिहार्यता पर ध्यान नहीं देते। सो सारे प्रेमयोग वियोग पर समाप्त हो जाते हैं।
प्रिय के प्रति निष्ठा कुत्तों की प्रकृति है। ऋग्वेद (१०.१०८) में सरमा और पणि का संवाद है। पुराणों के अनुसार पणियों ने इंद्र की गाएं चोरी की थी। इंद्र के पास सरमा नाम की कुतिया थी। इंद्र ने उसे गायों का पता लगाने भेजा। उसने तमाम जल प्रवाह पार किए और गाएं खोज लीं। पणियों ने प्रलोभन दिए। वह नहीं मानी। उसने पणियों से कहा कि ‘इंद्र आएंगे, तुमको दंडित करेंगे।’ पूरा संवाद बड़ा रोचक है। कथा में जोर निष्ठा पर है। सभी कुत्ते मनुष्य के साथ रहने के इच्छुक हैं। लेकिन इसी कोटि के सभी जानवर नहीं। सियार की शारीरिक बनावट कुत्तों जैसी है। लेकिन सियार मनुष्य के साथ नहीं रहना चाहते। भेड़िया भी नहीं। सियार, लोमड़ी को जंगलप्रिय हैं और कुत्तों को मनुष्य जाति के गांव, नगर। वे गांवों नगरों में डंडों की मार सहते हैं, घायल होते हैं तो भी मनुष्य का साथ नहीं छोड़ते। कोई अनजान, अज्ञात प्राकृतिक प्रेम ही उन्हें मनुष्यों से जोड़ रखता है और यह प्रेम अद्वितीय है। इतिहास के गर्भ में इस प्रेमकथा के बीज जरूर होंगे। साहचर्य है तो इस साहचर्य का इतिहास भी होगा।
महाभारत में कुत्तों का उल्लेख कई बार हुआ है। महाभारतकार ने युद्ध की विभीषिका के वर्णन में युद्धरत राजाओं की तुलना मांसलोभी कुत्तों से की है ‘जैसे मांस लोभी कुत्ते लड़ते हैं वैसे ही राजा भी लड़ते हैं।’ यहां राजाओं को लोभी कहने के लिए कुत्तों का उदाहरण दिया गया है। वैसे कुत्ते लोभी नहीं होते, वे भूखे होने के कारण लोभी दिखाई पड़ते हैं। कुत्तों का मनुष्य के निकट होना यहां विशेष बात है। स्वार्गारोहण पर्व में कुत्ते की चरम संभावना का वर्णन है। युधिष्ठिर के साथ स्वर्ग की यात्रा में अंत में कुत्ता ही शेष रहा। चार भाई और द्रौपदी तमाम कारणों से स्वर्ग नहीं जा सके। कुत्ते जीवधारी हैं। प्रकृति ने उन्हें मनुष्य समाज के निकट बैठाया है। प्रकृति में सबके लिए स्थान है। पशु पक्षी अपने शरीर के आकार भर जगह लेते हैं। वे घर नहीं बनाते। जहं बैठे, सोए, प्रजनन हुआ, वही थोड़े समय का घर या आश्रय। उनके हृदय में हम मनुष्यों के लिए प्यार है, हमारे भी मन में वैसा ही प्यार हो तो प्रकृति का अंतरसंगीत भीतर से बाहर तक भी गूंज सकता है। जैव विविधिता प्रकृति का ही प्रसाद है।