" /> झांकी… प्रियंका की सावधानी

झांकी… प्रियंका की सावधानी

प्रियंका की सावधानी
सरकारी बंगला खाली करने के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को बदनाम किया गया था। उससे प्रियंका गांधी ने सबक लिया है। इसलिए गुरुवार को जब उन्होंने दिल्ली स्थित ३५ लोधी रोड बंगला खाली किया तब केंद्रीय लोक निर्माण विभाग के अधिकारियों को बुलाकर पहले बंगले का पूरा मुआयना कराया, विशेषकर टॉयलेट और बाथरूम के नल आदि दिखाकर संतुष्ट किया कि बंगले में सब सही सलामत है। फिर विभाग द्वारा उन्हें बंगला खाली करने संबंधी वेकेशन रिपोर्ट सौंपी गई, जिसमें उल्लेख था कि बंगले में कोई खामी नहीं है। बंगले के बिजली, पानी व अन्य देय चुकता करने के बाद प्रियंका ने संबंधित अधिकारियों को बुलाकर चाबियां सौंपीं। खबर है कि वे अभी कुछ दिन गुरुग्राम में रहेंगी और फिर मध्य दिल्ली इलाके के एक आवास में रहने चली आएंगी। प्रियंका ने मध्य दिल्ली में अपने रहने के लिए जो आवास तय किया है, उसकी रंगाई-पुताई और मरम्मत का काम चल रहा है। केंद्रीय आवास एवं शहरी कार्य मंत्रालय ने प्रियंका से नई दिल्ली स्थित सरकारी बंगला एक अगस्त तक खाली करने को कहा था लेकिन कांग्रेस महासचिव ने इस अवधि के पहले ही यह बंगला खाली कर दिया। आवास और शहरी कार्य मंत्रालय की ओर से जारी आदेश में कहा गया कि एसपीजी सुरक्षा वापस लिए जाने के बाद उन्हें मौजूदा आवास ३५ लोधी एस्टेट खाली करना पड़ेगा क्योंकि जेड प्लस की श्रेणी वाली सुरक्षा में आवास सुविधा नहीं मिलती। सरकार ने पिछले साल नवंबर में कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी, पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रियंका गांधी की एसपीजी सुरक्षा वापस ले ली थी तथा उन्हें जेड-प्लस श्रेणी सुरक्षा दी थी। उल्लेखनीय है अखिलेश यादव पर बंगला छोड़ते वक्त नल व एसी आदि तोड़फोड़ के आरोप लगे थे। प्रियंका ने सावधानी बरती कि उनके साथ साजिशन इस तरह की घटना न हो।
डोटासरा की पारी शुरू
कम से कम राजस्थान कांग्रेस के नए मुखिया और वैâबिनेट मंत्री गोविंद सिंह डोटासरा को इस बात से संतोष होना चाहिए कि उनको बर्खास्त अध्यक्ष सचिन पायलट ने शुभकामनाएं दी हैं। प्रदेश कांग्रेस अध्‍यक्ष के पदग्रहण समारोह में मुख्‍यमंत्री अशोक गहलोत, पार्टी के राष्‍ट्रीय महासचिव और राजस्‍थान के प्रभारी अविनाश पांडे, केसी वेणुगोपाल सहित वरिष्ठ नेता, विधायक, पूर्व पदाधिकारी और कार्यकर्ताओं की मौजूदगी के बीच पायलट की बधाई के गहरे अर्थ ढूंढे जा रहे हैं। पायलट ने डोटासरा को बधाई देते हुए ट्वीट दागा था कि डोटासरा को राजस्थान प्रदेश कांग्रेस कमेटी के अध्यक्ष का पदभार ग्रहण करने पर बधाई। मुझे उम्मीद है कि आप बिना किसी दबाव या पक्षपात के उन कार्यकर्ताओं का जिनकी मेहनत से सरकार बनी है, पूरा मान-सम्मान रखेंगे। बहरहाल पंचायत समिति के पार्षद से प्रदेश अध्यक्ष तक का सफर पूरा करने वाले डोटासरा प्रधान, विधायक, पार्टी के सचेतक, जिलाध्यक्ष और मंत्री पद का दायित्व संभाल चुके हैं। अब उनके सामने प्रदेश में कांग्रेस के बिखरे कुनबे को एकजुट रखने की बड़ी चुनौती है। गहलोत के करीबी डोटासरा अपनी नई पारी शुरू कर चुके हैं। उनके पिता मोहन सिंह शिक्षक थे। पत्नी सुनीता सरकारी शिक्षिका हैं। बड़ा बेटा अभिलाष इंजीनियर तो छोटा बेटा अविनाश राजस्थान लेखा सेवा में अधिकारी है। छोटी बहू राजस्थान प्रशासनिक सेवा की अधिकारी है और अभी सीकर जिले में एसीएम का पद संभाल रही है।