झांसा!, प्यार में गंवाई अस्मत पैसा और जान

दहेज लोभी दगाबाज से दिल लगाना १९ वर्षीया युवती की मौत का सबब बन गया। युवती के दगाबाज प्रेमी ने पहले उसे प्यार के जाल में फंसा लिया, फिर शादी का झांसा देकर हवस की आग मिटाता रहा। बात जब शादी की आई तो घरवालों का बहाना बनाकर दहेज की मांग करने लगा। हजारों रुपए लेने के बाद भी जब उसका लालच खत्म नहीं हुआ तो पीड़िता ने अपने परिवार की खराब माली हालत का हवाला देकर दहेज देने में असमर्थता जता दी। दगाबाज प्रेमी ने तब अपना असली रूप दिखाया उसने शादी से इंकार कर दिया। इतना ही नहीं कानूनी कार्रवाई के पचड़े के डर से उसने प्रेमिका को धोखे से जहर भी पिला दिया। इस मामले में पुलिस ने उचित धाराओं के तहत मामला दर्ज नहीं किया है, साथ ही आरोपियों को गिरफ्तार न करके पुलिस उन्हें बचा रही है। ऐसा प्यार में जान गंवानेवाली मृतका के परिजनों का आरोप है।

तस्लीम अब्दुल रशीद खान, अंधेरी-पश्चिम स्थित गांवदेवी डोंगर पर पत्नी और ३ बहनों के साथ रहते हैं। ऑटोरिक्शा चलानेवाले तस्लीम की माली हालत ठीक नहीं है इसलिए उनकी बहन मिनाज वैâटरिंग सर्विस में काम करके अपने भाई की मदद करती थी। करीब साल भर पहले मिनाज की अंधेरी-पश्चिम स्थित गिल्बर्ट हिल में रहनेवाले मोहसिन अनवर शेख से दोस्ती हो गई थी। मोबाइल की दुकान में काम करनेवाले मोहसिन ने शादी का झांसा देकर मिनाज को प्रेम जाल में फंसा लिया और दोनों छिप-छिपकर मिलने लगे। ६ महीने पहले तस्लीम को मोहसिन और मिनाज के प्रेम संबंधों की भनक लग गई, जिसके बाद वर्ष २०१८ के दिसंबर महीने में तस्लीम, मिनाज की शादी के लिए मोहसिन के पिता अनवर शेख से मिला था। पहले तो मोहसिन के घरवालों ने शादी को मंजूरी देने से इंकार कर दिया लेकिन बाद में मोहसिन ने उन्हें मना लिया। १४ फरवरी को मोहसिन और मिनाज की सगाई होनी थी लेकिन मोहसिन और उसके परिजन सगाई के लिए मिनाज के घर नहीं पहुंचें। पूछने पर उन्होनें सगाई अप्रैल तक स्थगित करने को कहा लेकिन इस बीच मोहसिन अपने खर्चे और मां के इलाज का बहाना बनाकर मिनाज से पैसों की मांग करने लगा। झांसे में आई मिनाज ने शादी के लिए बनाए गहने बेचकर ८५ हजार रुपए मोहसिन को दे भी दिए। फिर भी २० फरवरी को मोहसिन ने शादी से इंकार कर दिया। डीएन नगर पुलिस थाने में दर्ज एफआईआर के अनुसार इससे निराश मिनाज ने उसी वक्त मोहसिन के सामने जहर खा लिया। बाद में मोहसिन ने उसे कूपर अस्पताल पहुंचाया था लेकिन वहां उसकी हालत में सुधार न होने के कारण घरवाले उसे अंधेरी-पश्चिम स्थित बीएसईएस अस्पताल में ले गए। लगभग १० दिन मौत से जूझने के बाद १ मार्च को अस्पताल में मिनाज की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि मोहसिन, मिनाज से और ४ लाख रुपए की मांग कर रहा था लेकिन मिनाज ने असमर्थता जताई। इस पर मोहसिन ने कहा कि पैसे नहीं देंगे तो उसके घरवाले शादी को मंजूरी नहीं देंगे। ‘शादी नहीं हो सकती इसलिए साथ में जान देने का झांसा देकर मोहसिन ने मिनाज को जहर पिला दिया।’ खुद को बेगुनाह बताने के लिए उसने कुछ देर बाद मिनाज को अस्पताल भी पहुंचाया और उसने पूरा ध्यान रखा कि कहीं मिनाज उसकी करनी पुलिस को न बता दे। परिजनों का कहना है कि मोहसिन ने मिनाज को कूपर अस्पताल पहुंचाया था। रास्ते में उसने मिनाज को एक बार फिर झूठा वादा किया कि वह बहुत जल्द उससे शादी कर लेगा। मिनाज ने इसीलिए पुलिस के समक्ष झूठा बयान दिया था कि उसने गलती से जहर पिया था जबकि परिजनों को मिनाज ने बताया था कि मोहसिन ने उसे धोखे से जहर पिलाया था। मिनाज की नाजुक हालत को देखते हुए परिजनों भी उस वक्त पुलिस को सच्चाई नहीं बताई। परिजनों का आरोप है कि इस मामले में डीएन नगर पुलिस मोहसिन को बचा रही है। पुलिस ने आईपीसी की धारा ३०२ के बजाय ३०६ के तहत मामला दर्ज किया है, उस पर भी पुलिस ने अभी तक मोहसिन और उसके मां-बाप को गिरफ्तार नहीं किया है। अब आरोपियों की गिरफ्तारी के लिए मिनाज के परिजन कोर्ट का दरवाजा खटखटाने की तैयारी कर रहे हैं।

इस मामले में डीएन नगर पुलिस थाने के वरिष्ठ पुलिस निरीक्षक परमेश्वर गनमे का कहना है कि मिनाज और उसके परिजनों द्वारा पहले दिए गए बयान के आधार पर मामला दर्ज किया गया है। पुलिस इस मामले में फिलहाल जांच कर रही है।