" /> टेंटवास होगा खत्म, बुलेटप्रूफ मंदिर में विराजेंगे रामलला

टेंटवास होगा खत्म, बुलेटप्रूफ मंदिर में विराजेंगे रामलला

रामलला के करोड़ों भक्तों के लिए खुशी की खबर है। राम जन्मभूमि में रामभक्त रामलला के दर्शन बेहद नजदीक से कर सकेंगे। रामलला को अब टेंटवास से मुक्ति मिलने जा रही है। रामलला को अब बुलेटप्रूफ शीशे युक्त फाइबर के मंदिर में शिफ्ट किया जाएगा। रामलला २५ मार्च को गर्भगृह से निकल कर राम जन्मभूमि परिसर में मानस भवन के पास इस मंदिर में विराजेंगे।
चैत्र रामनवमी का पहला दिन राम भक्तों के लिए खास होगा। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की दूसरी बैठक ४ अप्रैल को अयोध्या में ही आयोजित होगी। ट्रस्ट ने राम मंदिर निर्माण की प्रक्रिया शुरू करने से पहले ट्रस्ट का पहला कार्यालय भी राम कचहरी मंदिर को चयनित किया है। भारतीय स्टेट बैंक में रामलला का खाता भी खोल दिया गया है। रामलला के दर्शन के लिए आए भक्तों द्वारा दान पात्र में दिए गए दान का ८ लाख रुपए भी जमा कर दिया गया है। इतने रुपए विगत १४ दिन में चढ़ावे में आए हैं। अभी दान की उस राशि को स्वीकार नहीं किया जा रहा है, जो दानियों द्वारा मंदिर निर्माण के लिए दी जानेवाली है। उसके लिए अलग से खाते खोले जाएंगे, जो कानूनन आयकर से मुक्त होंगे। १७ मार्च तक रामलला के स्थान की टेक्निकल तैयारी पूरी कर ली जाएगी। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट के महामंत्री चंपत राय, ट्रस्टी डॉ. अनिल मिश्र, जिलाधिकारी अनुज झा ने कल रामलला परिसर का जायजा लिया है। २५ मार्च से राम महोत्सव के आयोजन की शुरुआत होगी। देशभर के ४ लाख गांवों में राम जन्मोत्सव कार्यक्रम होंगे। इसका एकमात्र उद्देश्य राम जन्मोत्सव को भव्यता देना है। राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट की दूसरी बैठक की तिथि भी निर्धारित की गई है। ४ अप्रैल को अयोध्या में ही ट्रस्ट की दूसरी बैठक की जाएगी, जिसमें सभी ट्रस्टी शामिल होंगे।