" /> टेंशन में तनुश्री!, नाना ने ठोका रु. २५ करोड़ का दावा

टेंशन में तनुश्री!, नाना ने ठोका रु. २५ करोड़ का दावा

बता दें कि तनुश्री दत्ता ने पिछले दिनों प्रेस कॉन्प्रâेंस के दौरान ‘नाम फाउंडेशन’ पर आरोप लगाए, जिसके बाद एनजीओ ने उनके खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज किया था। तनुश्री कोर्ट में अनुपस्थित रहीं, जिसके बाद जस्टिस एके मेनन ने नाम फाउंडेशन को राहत प्रदान की। तनुश्री समय पर न ही कोर्ट में खुद मौजूद रहीं और न ही उनके वकील समय से कोर्ट पहुंच पाए। हाई कोर्ट में दाखिल याचिका में नाना पाटेकर और मकरंद अनासपुरे द्वारा २०१५ में शुरू किए गए ‘नाम फाउंडेशन’ ने कहा कि उनका एनजीओ लगातार सूखे से प्रभावित इलाकों में किसानों की बेहतरी की दिशा की तरफ काम कर रहा है लेकिन तनुश्री ने जनवरी २०२० में एक प्रेस कॉन्प्रâेंस कर उनके एनजीओ पर आरोप लगाए, जिससे उनकी प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचा।
बता दें कि दो साल पहले तनुश्री दत्ता वर्कप्लेस में यौन हिंसा के खिलाफ आवाज उठानेवाली पहली बॉलीवुड शख्सियत बनी थीं। उन्होंने नाना पाटेकर पर २००८ में फिल्म ‘हॉर्न ओके प्लीज’ की शूटिंग के दौरान बार-बार गलत जगह छूने का आरोप लगाया था। पिछले साल जून में पुलिस ने शिकायत को फर्जी बताकर सभी आरोपियों के खिलाफ केस बंद कर दिया था। हालांकि तनुश्री ने अब केस बंद करने के खिलाफ हाई कोर्ट में याचिका दाखिल की है जो फिलहाल लंबित है। पैâसला आने के बाद तनुश्री ने कहा कि वह चुप नहीं बैठेंगी और एनजीओ की फंक्शनिंग पर जांच की मांग करेंगी।