" /> टोरेंट विरोधी मोर्चे पर कोरोना का कहर

टोरेंट विरोधी मोर्चे पर कोरोना का कहर

‘आगरी युवक संगठन’ व अन्य संस्थाओं के संयुक्त तत्वावधान में बनी ‘टोरेंट हटाओ कृति समिति’ की तरफ से १६ मार्च सोमवार को कलवा से जिलाधिकारी कार्यालय तक निकाले जानेवाले मोर्चे पर कोरोना वायरस का कहर टूट पड़ा है। जिला प्रशासन द्वारा जारी आदेश के चलते मुंब्रा पुलिस ने नोटिस जारी कर मोर्चे को परमिशन देने से इंकार कर दिया है। लंबे समय से मोर्चे निकालने की तैयारी कर रहे आयोजकों को गहरा झटका लगा है। मोर्चा को लेकर मुंब्रा के आनंद कोली वाड़ा स्थित एक हॉल में आयोजित पत्रकार परिषद में ‘आगरी युवक संगठन’ के अध्यक्ष गोविंद भगत ने पुलिस द्वारा परमिशन न मिलने पर नाराजगी व्यक्त करते हुए कहा कि कोरोना का डर दिखाकर जिला प्रशासन तथा पुलिस विभाग मोर्चा निकालने का परमिशन नहीं दे रहा है। हमें कोरोना चलेगा लेकिन टोरेंट कत्तई नहीं चलेगा। मोर्चा भले नहीं निकालेंगे लेकिन कलवा-मुंब्रा-दिवा तथा शील परिसर में दुकानें, ऑटोरिक्शा बंद रखकर जगह-जगह धरना-प्रदर्शन जरूर करेंगे।
कुछ नेता और पुराने कर्मचारी कर रहे हैं विरोध
कलवा, मुंब्रा, शील विभाग में बिजली की आपूर्ति करनेवाली टोरेंट पॉवर के जनसंपर्क अधिकारी का कहना है कि निजी स्वार्थ के लिए कुछ लोग अनुचित तरीके से विरोध कर रहे हैं। दिवा-मुंब्रा में कुछ पुराने कर्मचारियों द्वारा विद्युत संयंत्रों में छेड़छाड़ कर तथा उसे जलाकर बिजली आपूर्ति में बाधा पहुंचाने का लगातार प्रयास किया जा रहा है। कंपनी उपभोक्ताओं को उत्तम सेवा उपलब्ध करा रही है। आम नागरिक खुश है सिर्फ बेरोजगार हुए लोग ही कंपनी का विरोध कर रहे हैं और कंपनी को बदनाम करने की लगातर साजिश रच रहे हैं।