ट्रेनों में दूर होगी पानी की किल्लत

४० हॉर्स पावर की मोटर से पांच मिनट में फुल होगा पानी
लंबी दूरी की ट्रेनों में पानी की किल्लत अब बीते जमाने की बात हो जाएगी। रेलवे एक ऐसी प्रणाली ला रही है, जिससे अभी ट्रेन की कोचों में पानी भरने में जहां २० मिनट का समय लगता है, वहीं सिर्फ पांच मिनट में पानी भर जाएगा। रेलवे इसकी शुरुआत अगले साल मार्च से १४२ से अधिक स्टेशनों पर शुरू करने जा रही है, जहां ट्रेनों में पानी भरने की प्रणाली लगी हुई है।
हाल ही में रेलवे बोर्ड ने इस परियोजना के लिए ३०० करोड़ रुपए की राशि आवंटित की है। लंबी दूरीवाली ट्रेनों में शौचालय और वॉश बेसिन के लिए प्रत्येक ३००-४०० किलोमीटर की दूरी पर पानी भरा जाता है। यह तब भी भरे जाते हैं जब यह खाली नहीं होते हैं, ताकि रेलवे कोच में पानी की दिक्कत न हो। अब पानी भरने की तेज प्रणाली का इस्तेमाल करके २४ कोचवाली ट्रेनों में पांच मिनट में पानी भरा जा सकता है। यहां तक कि कई ट्रेनों में एक साथ पानी भरा जा सकता है। रेल अधिकारियों की मानें तो पहले ट्रेनों में चार इंचवाली पाइप की मदद से पानी भरा जाता है, अब इसकी जगह छह इंचवाली पाइप हाई पावर मोटर के साथ लगाई जाएंगी। साथ ही पानी भरने के लिए ४० हॉर्स पावर की मोटर का इस्तेमाल भी किया जाएगा, जिससे कोच की टंकी में तेजी से पानी भर सकेगा। अधिकारी के मुताबिक ट्रेन कोचों में पानी एससीएडीए (सुपरवाइजरी कंट्रोल एंड डेटा एक्विजिशन) कंप्यूटरकृत प्रणाली के जरिए आपूर्ति की जाएगी। इसे आरडीएसओ ने तैयार किया है। रेल मंत्रालय के एक वरिष्ठ अधिकारी ने बताया कि रेलवे के पास कोचों में पानी की समस्या की काफी शिकायतें आती थीं। अब इस प्रणाली की वजह से पानी की दिक्कत नहीं होगी।