ट्रोलर्स से आहत

भूमि पेडनेकर ने फिल्म ‘सांड की आंख’ में उम्रदराज महिला के किरदार तो वहीं फिल्म ‘बाला’ में सांवले रंग की महिला का किरदार निभाया था। इ भूमिकाओं के लिए लंबं समय तक ट्रोल किया है। अब भूमि ने कहा, ‘कलाकार की शारीरिक बनावट या रंग उसका किरदार तय करे, यह जरूरी नहीं है। मैं एक अभिनेत्री हूं और अलग-अलग किरदार निभाना मेरा काम है। ट्रोल करनेवालों उन्हें सलाह दी थी कि उन्हें ‘दम लग के हइसा’ नहीं करनी चाहिए थी क्योंकि उसके लिए उन्हें ३० किलो वजन बढ़ाना पड़ा। इस बारे में भूमि ने कहा, ‘ऐसे तो मुझे बहुत सारी फिल्में नहीं करनी चाहिए थीं।’ भूमि ने कहा, ‘आप फिल्म देखिए, अगर आपको समस्या है तो मेरे काम पर टिपण्णी करें, न कि मेरे चुने हुए किरदारों पर। मैं ऐसे किरदार चुनना बंद नहीं करूंगी।’