ठाणे की सड़के होंगी चकाचक ४० करोड़ होंगे खर्च  

ठाणे जिले में जर्जर हो चुकी सड़कों की मरम्मत के काम की शुरुआत बुधवार से कर दी गई। सड़कों की मरम्मत पर ४० करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इसका भूमिपूजन जिले के पालकमंत्री एकनाथ शिंदे ने किया।
इस दौरान पालकमंत्री ने अपने विचार व्यक्त करते हुए कहा कि ठाणे जिले की अर्थव्यवस्था को मजबूत बनाने और ग्रामीण क्षेत्रों के विकास के लिए सड़कों का जाल बिछाना जरूरी है इसके लिए बड़ी तादाद में राज्य सरकार से निधि मुहैया कराई गई है। इसके साथ ही जिला नियोजन समिति के माध्यम से करोड़ों रुपए के कामों को मंजूरी दिलाई गई है। इसी क्रम में दो दिन पहले ही छह लेन के शील-कल्याण-भिवंडी मार्ग के काम का भूमिपूजन किया गया था। बुधवार को मुरबाड़ तहसील के करीब ६८ किमी से अधिक सड़क मरम्मत के काम का भूमिपूजन भी किया गया। बताया गया है कि इस पर करीब ४० करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। इसमें राज्य महामार्ग ७९ से शिरवली वड़ाचीवाड़ी फणसोली-सुकालवाड़ी तक आठ किमी मार्ग पर चार करोड़ रुपए, धसई-कलंबाड-मढ़, रामपुर तक साढ़े पांच किमी मार्ग पर २.७९ करोड़ रुपए, राज्य महामार्ग ७८ पारगांव से बालकीचा पाड़ा तक छह किमी मार्ग पर ४.११ करोड़ रुपए, राज्य महामार्ग ७९ से पवाले, कोलठन, भादाने तक ८.६४ किमी मार्ग पर ४.४५ करोड़ रुपए, किसल-धारगांव संगम तक ५ .७५ किमी मार्ग पर ३.३ करोड़ रुपए, राष्ट्रीय महामार्ग २२२ नांदगांव-मानिवली-ठाणे-पाडाले तक १०.३७ किमी मार्ग पर ५.४५ करोड़ रुपए, राष्ट्रीय महामार्ग २२२ पोटगांव-उंबरवाडी-चोणा तक ११.६ किमी मार्ग पर ५.३९ करोड़ रुपए, राष्ट्रीय महामार्ग २२२ टेंबरे-बुद्रुक तक २.२७ किमी मार्ग पर १.२९ करोड़ रुपए खर्च किए जाएंगे। सभी मार्गों का काम मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के तहत किया जाएगा। इस मौके पर ठाणे जिला परिषद के उपाध्यक्ष सुभाष पवार, महाराष्ट्र हातमाग महामंडल के अध्यक्ष व शिवसेना जिलाप्रमुख (भिवंडी) प्रकाश पाटील आदि मौजूद थे।