" /> ठाणे में कोरोना अलर्ट!

ठाणे में कोरोना अलर्ट!

ठाणे में कोरोना वायरस का संक्रमण रोकने तथा उपाय योजना का कड़ाई से पालन करने के लिए जिलाधिकारी राजेश नार्वेकर ने जिले में `आपदा प्रबंधन कानून’ लागू करने की घोषणा कर दी है। ठाणे जिला मुंबई शहर के मुहाने पर स्थित है। कई पर्यटक ठाणे के रास्ते आवाजाही करते हैं, इसकी वजह से जिले में वायरस पैâलने की संभावना है। इसी के मद्देनजर जिले के सभी स्वास्थ्य एवं सुरक्षा से जुड़े विभागों को न केवल हाई अलर्ट पर रहने के निर्देश दिए गए हैं बल्कि उपाय योजना लागू करने के लिए गठित की गई विशेष टीम को हर तरह की कार्रवाई करने का अधिकार दिया गया है।
डेली रिपोर्ट भेजने का निर्देश
`आपदा प्रबंधन कानून’ का कड़ाई से पालन करने के लिए सिविल अस्पताल के जिला शल्यचिकित्सक डॉ. वैâलाश पवार, जिला परिषद के मुख्य स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. मनीष रेगे की नियुक्ति की गई है। इसके अलावा पुलिस, स्वास्थ्य, महानगरपालिका, जिला परिषद, अन्न एवं औषधि प्रशासन, शिक्षा तथा औद्योगिक विभाग के साथ साथ सरकारी सहायता प्राप्त सामाजिक संगठनों की जिम्मेदारी निश्चित कर दी गयी है। सभी विभागों को आवश्यक उपाय योजना लागू करने तथा प्रतिदिन उसकी रिपोर्ट सौंपने का आदेश जिलाधिकारी नार्वेकर द्वारा दिया गया है।
स्वतंत्र चिकित्सकीय टीम के गठन का निर्देश
चिकित्सकीय टीम में नियुक्त डॉ. पवार तथा डॉ. रेंगें को एक स्वतंत्र चिकित्सकीय टीम का गठन करने, परिस्थितियों पर दिन-रात नजर रखने, उससे निपटने के लिए हर कीमत पर तैयार रहने, संदिग्ध रोगी के लिए स्वतंत्र एंबुलेंस की व्यवस्था करने, सूचना केंद्र स्थापित करने, वायरस पीड़ितों की खोज कर अपनी निगरानी में रखने तथा जन सामान्य में जागरूकता पैâलाने आदि के निर्देश दिए गए हैं।
निजी अस्पतालों को अधिग्रहण का अधिकार
जिले में `आपदा प्रबंधन कानून’ लागू हो गया है। इस कानून के तहत आवश्यकता पड़ने पर किसी भी निजी अस्पताल, उसके डॉक्टर तथा मेडिकल यंत्र सामग्री का अधिग्रहण करने का अधिकार जिला प्रशासन को मिल गया है। अगर किसी निजी अस्पताल द्वारा सहयोग नहीं किया जाता है तो उस पर कार्रवाई करने का अधिकार `आपदा प्रबंधन विभाग’ को दे दिया गया है।
दवाओं तथा मास्क पर विभाग की नजर
निर्धारित कीमत से ज्यादा पैसे लेकर मास्क बेचने तथा दवाओं का अनुचित रूप से भंडारण करनेवालों के विरुद्ध कड़ी कार्रवाई करने का अधिकार संबंधित विभागों को दे दिए गए हैं। सेवाभावी संगठनों को बड़े पैमाने जन जागरण अभियान चलाने, अफवाह पैâलानेवालों पर पुलिस को कड़ी कार्रवाई करने तथा सार्वजनिक कार्यक्रमों के आयोजकों को उचित जानकारी उपलब्ध कराने का आदेश संबंधित विभाग को दिया गया है।
जिले में एक भी मरीज नहीं
जिले में कोरोना वायरस का एक भी मरीज नहीं है। आम लोगों में किसी तरह का डर न पैâले, इसके लिए बड़े पैमाने पर प्रचार-प्रसार किया जा रहा है। स्कूल-कॉलेज, आंगनवाड़ी के बच्चों को जागरूक करने, ग्राम पंचायतों तथा बैनर पोस्टर के माध्यम से जगह-जगह वायरस की जानकारी उपलब्ध कराने एवं सार्वजनिक जगहों पर जंतु नाशक दवाओं का छिड़काव करने के निर्देश दिए गए हैं। नागरिकों से किसी तरह के अफवाह पर विश्वास नहीं करने की अपील की गई है।