डबल सिम से मोबाइल कंपनियां डांवांडोल, ३५ करोड़ ग्राहकों के सिम होंगे बंद!

एंड्रॉएड एवं स्मार्ट फोन के इस युग में हर उपभोक्ता के मोबाइल फोन में दो सिम कार्डों का इस्तेमाल आम हो गया है लेकिन महंगाई की मार से जूझ रही मोबाइल कंपनियों को ग्राहकों द्वारा इस्तेमाल किए जा रहे डबल सिम अखरने लगा है। प्रतिस्पर्धा के बावजूद ग्राहकों को सस्ती सुविधा उपलब्ध कराने का दबाव झेल रही मोबाइल कंपनियां अब लगभग डबल सिम कार्ड इस्तेमाल करनेवाले ३५ करोड़ ग्राहकों का एक सिम कार्ड बंद करने की तैयारी कर रही हैं। ये ३५ करोड़ ऐसे उपभोक्ता हैं जो अपने डबल सिम में से एक सिम का इस्तेमाल महज इनकमिंग कॉल के लिए ही करते हैं और वे इनकमिंग के लिए इस्तेमाल किए जानेवाले अपने सिम में कई-कई महीने एक रुपए का भी रिचार्ज नहीं करवाते हैं। लिहाजा ऐसे सिम कार्ड धारकों को सेवा प्रदान करना मोबाइल कंपनियों को भारी पड़ रहा है।
बता दें कि मशहूर उद्योगपति मुकेश अंबानी के मोबाइल सेवा कारोबार में आने के साथ इस क्षेत्र में मौजूद मोबाइल कंपनियों के लिए बुरे दिन शुरू हो गए। मुकेश अंबानी की कंपनी जिओ द्वारा ग्राहकों को दी जानेवाले मुफ्त सेवाओं एवं आए दिन पेश किए जानेवाले नए-नए ऑफर से अन्य कंपनियों पर अपनी साख बचाने के लिए नए-नए प्लान लांच करने का दबाव बढ़ गया है। मोबाइल नंबर पोर्टेबिलिटी की सुविधा उपलब्ध होने के बाद भी एयरटेल, आइडिया और वोडाफोन की आमदनी का जरिया रहे ज्यादातर उपभोक्ताओं ने जिओ का नया सिम ले लिया। वहीं उक्त ग्राहक पहले से इस्तेमाल किए जा रहे सिम कार्ड और मोबाइल नंबर का इस्तेमाल महज इनकमिंग कॉल के लिए कर रहे हैं। हिंदुस्थान में ऐसे २५० मिलियन उपभोक्ताओं की पहचान की गई है, जिनमें १०० मिलियन उपभोक्ता अकेले एयर टेल के पास हैं जबकि वोडाफोन तथा आयडिया के पास भी लगभग १५० मिलियन उपभोक्ता हैं। ये उपभोक्ता लंबे समय से रिचार्ज नहीं करा रहे हैं। प्रतिस्पर्धा और कमाई में कमी के कारण मोबाइल कंपनियां अब मुफ्त इनकमिंग सुविधा को बंद करने की योजना बना रही हैं। कंपनियां जल्द ही अपने नए प्लान लॉन्च करके हर महीने कस्टमर को कम से कम ३५ रुपए का रिचार्ज कराना अनिवार्य करने की तैयारी कर रही हैं।