डांस पर डोनेशन!, हर पैग पर करना होगा प्राश्चित, कोर्ट का नीट फैसला

– डांस बार में डांसरों पर पैसा उड़ाने का मामला
– ४७ लोगों को पुलिस ने पकड़ा
– देर रात डांसरों पर उड़ा रहे थे नोट
– रविवार रात इनकी हुई गिरफ्तारी
– मजिस्ट्रेट कोर्ट में पुलिस ने किया पेश
– सभी आरोपी आर्थर रोड जेल में रखे गए
– कोर्ट ने कहा, अनाथ आश्रम में सभी डोनेशन दें
– हर आरोपी को `३,००० डोनेशन देना होगा
– डोनेशन देने के बाद ही जेल से होगी रिहाई

१९७१ में तत्कालीन सुपर स्टार राजेश खन्ना की एक फिल्म आई थी ‘दुश्मन’। उस फिल्म में ट्रक ड्राइवर राजेश खन्ना से एक एक्सीडेंट हो जाता है, जिसमें एक किसान की मौत हो जाती है। मामला अदालत में जाता है और न्यायाधीश राजेश खन्ना को उसी किसान के घर रहकर उसके परिवार की सेवा करने की सजा देते हैं। इसी तरह का एक ‘नीट’ (स्वच्छ) पैâसला मुंबई सिविल कोर्ट की एक न्यायाधीश ने डांस बार में बार डांसरों पर पैसा उड़ानेवाले ४७ लोगों के विषय में दिया है। इस पैâसले के तहत अब इन सभी को हर पैग का प्रायश्चित करना पड़ेगा।

न्यायाधीश द्वारा दिए गए फैसले के अनुसार देर रात डांस बार में डांसरों पर नोट उड़ानेवाले ग्राहकों को अब अनाथ आश्रम में रहनेवाले अनाथों की सेवा करनी पड़ेगी और अपनी कमाई का कुछ भाग उस अनाथ आश्रम को डोनेशन के रूप में देना होगा तब जाकर उनकी जेल से रिहाई होगी। इस तरह मुंबई सिटी सिविल कोर्ट ने मुंबई के डांस बार में बार डांसरों पर नोट उड़ा रहे ४७ लोगों के सामने यह शर्त रखकर सबको सकते में डाल दिया। पुलिस ने इन लोगों को रविवार की रात को गिरफ्तार किया था। उन लोगों को जब कोर्ट में हाजिर किया गया तो कोर्ट ने कहा कि रिहाई के लिए हर आरोपी को बदलापुर में प्रत्येक अनाथ बच्चे को ३ हजार रुपए दान देने होंगे।

जानकारी के मुताबिक संभवत: ऐसा पहली बार हुआ है, जब न्यायाधीश ने कोर्ट में इस तरह का आदेश दिया है। सभी आरोपियों को पुलिस स्टेशन में १.४१ लाख रुपए जुर्माने के रूप में जमा कराने के लिए कहा गया है। इस राशि को बदलापुर स्थित सत्कर्म बालक आश्रम के बच्चों को दान किया जाएगा। गिरफ्तार सभी लोगों के ६ वकीलों ने न्यायाधीश सबीना मलिक के सामने अपील की कि उनके मुवक्किलों को कैश बॉन्ड पर छोड़ा जा सकता है लेकिन मजिस्ट्रेट ने इसे मानने से इनकार कर दिया। उन्होंने कहा कि डांस बार में नोट उछालनेवाले आरोपी अपने परिवार को बर्बाद कर देते हैं। आरोपियों को आर्थर रोड जेल से तभी रिहा किया जाएगा जब वो डोनेशन की रकम पुलिस थाने में जमा कर देंगे।