डार्क वेब पर डकैती की क्लास, १०० डॉलर में एटीएम हैकिंग ट्यूशन

पहले यह कहा जाता था कि हैकिंग सबके बस की बात नहीं है लेकिन अब कोई नौसिखिया भी महज १५ मिनट में आपके अकाउंट में सेंध लगा सकता है। आपके एटीएम से पैसे चुराने के लिए उसे १५ मिनट से अधिक नहीं लगेंगे। आप सोच रहे होंगे कि कोई एरो-गैरा वैâसे एटीएम हैक कर लेगा तो आपको बता दें कि `डार्क वेब’ पर इस डवैâती की क्लास दी जा रही है। महज १०० डॉलर में एटीएम हैकिंग की ट्यूशन दी जा रही है।
बता दें कि इंटरनेट की अंधेरी दुनिया कहे जानेवाले `डार्क वेब’ पर उपलब्ध लेटेस्ट टूल्स और डिवाइस की मदद से एटीएम में सेंध लगाने के काम को कुछ मिनटों में किया जा सकता है, वो भी बिना मशक्कत के। साइबर सिक्योरिटी स्टार्टअप `क्लाउड सेक’ ने `डार्क वेब’ पर ऐसे विक्रेताओं का पता लगाया है जो कि मालवेयर कार्ड्स, यूएसबी एटीएम मालवेयर जैसे लेटेस्ट रेडीमेड टूल्स और हैकिंग से जुड़ी दूसरी मशीनें बेचते हैं। सिक्योरिटी रिसर्चर राकेश कृष्णन ने बताया कि पहले, ये सारी चीजें बहुत जटिल थीं। अब इन डिवाइसेज की मदद से कोई भी एटीएम मशीनों को कंट्रोल कर सकता है। साइबर सिक्योरिटी एक्सपर्ट रितेश भाटिया ने बताया कि मालवेयर कार्ड एटीएम कार्ड की तरह होता है जिसे एटीएम मशीन में डालकर एटीएम के कंप्यूटर से कनेक्ट किया जाता और उसमें मालवेयर प्रवेश कर जाता है। उसके बाद जो भी व्यक्ति उस एटीएम से पैसे निकालने के लिए आता है मालवेयर की मदद से उसके कार्ड की सारी डिटेल्स और पिन चुरा लेता है। हैकर एटीएम जैसे दिखनेवाले ट्रिगर कार्ड का इस्तेमाल कर पैसे निकालकर फरार हो जाते हैं। ऐसे मालवेयर का खतरा विंडो एक्स पी वाले एटीएम में भी है। गौरतलब है कि हिंदुस्थान में सारे एटीएम अपडेटेड हैं। तो यह तरकीब यहां काम नहीं करेगी लेकिन `डार्क वेब’ पर बिकनेवाले कई डिवाइस एटीएम के लिए सबसे बड़ा खतरा है। ये डिवाइस `डार्क वेब’ पर उपलब्ध हैं और ट्रेनिंग भी दी जाती है।