‘डी’ को डंडा, एटीएस के हत्थे चढ़ा एक और आत्मघाती

आत्मघाती सुसाइड बॉम्बर फैजल मिर्जा की गिरफ्तारी के बाद उसके करीबी लोगों सहित ‘डी’ के गुर्गों की शामत आ गई है।
फैजल मिर्जा को महाराष्ट्र एटीएस की जुहू यूनिट ने ११ मई को गिरफ्तार किया था। वह पाकिस्तान से बम बनाने, शस्त्र चलाने और आतंकवादी हमलों को अंजाम देने का प्रशिक्षण लेकर मुंबई आया था। मुंबई सहित यूपी और गुजरात में किसी बड़ी आतंकवादी वारदात को अंजाम देने की उसकी योजना थी। उसे दुबई होकर पाकिस्तान पहुंचाने में अंतरराष्ट्रीय आतंकी माफिया डॉन दाऊद इब्राहिम की ‘डी’ कंपनी ने मदद की थी। उसकी गिरफ्तारी के बाद एटीएस को पता चला है कि वह मुंबई में रहकर नए लोगों को आतंकवादी बनने के लिए प्रेरित करने का प्रयास कर रहा था। उसके पाकिस्तान और शारजाह में बैठे आकाओं से सांकेतिक भाषा में भेजे गए संदेश एटीएस ने बीच में ही ट्रेस कर लिया था। जिसके बाद वह एटीएस के हत्थे चढ़ गया। अब एटीएस मुंबई सहित पूरे हिंदुस्थान में डी के गुर्गों को अपने रडार में ले लिया है। इसके साथ-साथ सोशल मीडिया में फैजल के मोबाइल नंबर में मिले नामों के आधार पर उसके परिचितों एवं सोशल मीडिया में उसके मित्रों से भी पूछताछ कर रही। वहीं फैजल की गिरफ्तारी के पांच दिन बाद कल एक और आत्मघाती हमलावर को महाराष्ट्र एटीएस द्वारा गुजरात से दबोचे जाने की जानकारी सामने आई है। बताया जा रहा है कि कल गिरफ्तार किया गया युवक भी फैजल के साथ पाकिस्तानी आतंकवादी ट्रेनिंग कैंपों में आतंकी हमलों की ट्रेनिंग लेकर हिंदुस्थान आया है। इसी तरह फैजल को पाकिस्तानी आतंकी ट्रेनिंग कैंपों तक पहुंचाने का जुगाड़ करनेवाले ‘डी’ के साथी फारूख देवाड़ीवाला की दुबई में गिरफ्तारी कल मीडिया में चर्चा का विषय रहा। हालांकि एटीएस अधिकारियों ने इससे अनभिज्ञता जताई।