डेंगू हुआ दबंग

शहर में इस वर्ष अक्टूबर महीने में जहां मच्छर जनित रोग मलेरिया से ग्रसित होनेवालों की संख्या में २५ प्रतिशत गिरावट देखने को मिली है, वहीं अक्टूबर में डेंगू से ग्रसित होनेवाले लोगों की संख्या में गत वर्ष की तुलना में इजाफा देखने को मिला है। फिर चाहे वह कन्फर्म केस हो या फिर संस्यास्पद दोनों ही मामलों में डेंगू के मरीजों की संख्या १७ फीसदी बढ़ी है। आंकड़े पर गौर करें तो यह साफ प्रतीत हो रहा है कि इस वर्ष डेंगू दबंग हुआ है। इतना ही नहीं डेंगू के चलते अब तक १४ मुंबईकरों को अपनी जान भी गंवानी पड़ी है। ऐसे में डेंगू के दबंग मच्छरों से बचने के लिए मुंबईकरों को सचेत और अपने आस-पास स्वच्छता का अधिक ध्यान रखना होगा वरना आपकी दिवाली अस्पताल के चक्कर काटने में गुजर सकती है।
बता दें कि साफ पानी में पनपनेवाले एडीज इजप्ती के मच्छर के काटने से डेंगू होता है। मनपा के स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी किए गए आंकड़ों पर गौर करें तो अक्टूबर २०१७ में डेंगू के २१२ कन्फर्म मामले थे जबकि इस वर्ष अक्टूबर में यह आंकड़ा २४९ तक पहुंच गया है। डेंगू के संदेहास्पद मरीजों की बात करें तो गत वर्ष अक्टूबर में इनकी संख्या ३ हजार २९३ थी, वहीं इस वर्ष अक्टूबर माह में यह आंकड़ा बढ़कर ३ हजार ८७५ तक पहुंच गया है। डेंगू से ग्रसित होने के कारण गत वर्ष १८ लोगों की मौत हुई थी जबकि इस वर्ष अक्टूबर तक १४ लोगों ने अपनी जान गंवाई है। एनोफेलीज मच्छर के काटने से मलेरिया की बीमारी होती है। अक्टूबर २०१७ में मलेरिया के ६१६ मामले सामने आए थे जबकि इस वर्ष अक्टूबर में ४६१ मामले ही देखने को मिले। उक्त आंकड़े साफ दर्शाते हैं कि किस तरह डेंगू के मच्छर लोगों पर हावी हुए हैं। मनपा की कार्यकारी स्वास्थ्य अधिकारी डॉ. पद्मजा केसकर ने बताया कि डेंगू के मच्छर व लार्वा को नष्ट करने के लिए मनपा के कीटनाशक विभाग द्वारा अक्टूबर में २८७ घरों में निरीक्षण किया गया और ३१२ पानी के पीपे भी चेक किए गए। इसी के साथ स्वास्थ्य विभाग के कर्मचारियों ने ७५० घरों का निरीक्षण किया, जिसमें २,५५० लोगों की जांच की गई। हमें लोगों की ओर से भी मदद का हाथ चाहिए, साफ-सफाई से डेंगू का खात्मा मुमकिन है।
डेंगू के लक्षण
बुखार के साथ सबसे सामान्य लक्षण है सिरदर्द, मांसपेशियों और जोड़ों में दर्द और त्वचा का खराब हो जाना। कभी-कभी यह लक्षण फ्लू के साथ मिलकर कन्फ्यूज भी कर देते हैं
डेंगू से बचने के उपाय
फिलहाल डेंगू से बचाव के लिए अभी तक कोई टीका नहीं है इसलिए इसके बचाव के लिए सजगता और स्वच्छता जरूरी है। डेंगू के मच्छर साफ पानी में पनपते हैं इसलिए घर में बाल्टी, पीपों व बिल्डिंग की टंकी में जमा पानी को हमेशा ढंककर रखें और आस-पास के गड्ढे आदि में पानी न जमा होने दें।